Parenthood is one of the most cherished feelings ever experienced by a couple during the course of their married period. The child in a couple’s life completes their family and the parents enjoy seeing their child grow and do everything possible for them. There are different ways of parenting of a girl child and boy’s child. Though in the modern era each child is equally important for parents, but still in some parts of the country there is an obsession of having a male child. People try various ways to conceive a male child but sometimes luck doesn’t favor them and they try every possible way to get a male child. In this article we will guide about how to conceive a male child according to Hindu mythology and explain various other planetary factors also including the time of the lady when she will definitely conceive a baby boy.

How to Conceive a Baby Boy According to Hindu Mythology?

Though there is not a sure shot method to conceive a baby boy, if you follow some rules as prescribed in Hindu mythology, you will have a better chance at conceiving a baby boy. According to them you need to sharpen your son and moon to conceive a male child. Let’s have a look at some of the tips which will be helpful if you are looking for a baby boy to embrace your parenthood:

  • Avoid birth control pills at least 2 months prior before following the method and be in a good mood for at least a week. One more thing is that you need to stop having sex for at least a month so that your bodies reproductive fluids to regenerate themselves.
  • First of all start counting the time when you bleed first, that is your period’s first day. For a reference we say that you see the blood on Wednesday 5 pm, so your day 1 will end at Thursday 5 pm.
  • Avoid sex during your periods and also don’t do any work during these times.
  • Practice the breathing techniques together and you should try to read something together before going for the process.
  • Now comes the main part that is having sex. Whenever you are looking for baby boy try having sex on even days that is 2, 4, 6, 8th day after your periods get over. The 8th, 10th, 12th day after periods is the best for conceiving a male child.
  • Wife should always sleep on the left side of the husband and face her husband during courtship till breathing condition applies.
  • Sex should be done on those recommended days and according to planetary position that is sun is more powerful for men that is breathing of a male is more powerful from his right nostrils and female breathing is more powerful from left nostril. For breathing to be powerful you need to do foreplay with your partner for more than 5 minutes. The breathing can be checked by closing one side of the nose.

 According to ayurveda when you are try to impregnate your partner you should have sex from 10 – 15 days from the period as it is the best time to conceive. Avoid vaginal sex after you get pregnant for at least 2 months.

How to Conceive a Baby Boy Indian Calendar

The baby boy is a goal for many couples. If we go by Hindu calendar there are few days where you can go for conception and the lady will bear a male child. As mentioned above even days after menstruation are the best for baby boys, still there are some nakshatra and lagna which are beneficial when you are trying to conceive a male child. To conceive a baby boy according to Indian Calendar here are some of the dates which are best when you are going for a amle child:

The Garbhadhana Samskara is the first Sanskara of Shodasha Samskaras which is regarded as a pre-planned family affair. The Garbhadhan Muhurat is a concept where a husband and wife meets to plan their progeny at the right time with religious purity. Garbhadhana Samskara helps to remove all the impurities related to female conception and reproductive system which ensures the birth of a healthy child.

Here are the details of the best time according to planetary positions which are prescribed according to Hindu calendar.

Time of Conception:

Conception should be done on 8th, 10th, 12th, 14th and 16th night after menstruation as these days are considered auspicious.

Nakshatras to Consider for Conception:

There are some fixed nakshatras which are considered the best time for conception. 

Good Nakshatras: Anuradha, Dhanistha, Hastha, Mrigshira, Rohini, shatabhisha , Swati, Uttara-bhadrapada,Uttara-phalguni and Uttara-shada 

Bad Nakshatras: Ardra, Ashlesha, Bharni, Jyestha, Krittika, Magha, Moola, Poorva-bhadrapada,Poorva-phalguni, Poorva-shadha, Revati

Tithes for Conception:

According to hindu calendar best tithis for conception are 1,3,5,7,10,12,13. Avoid conception on these tithis for a mel child 4,9,14, 6, 8 , 11. Amavasya and Purnima nights should also be avoided for conception.

Days for Conception:

Monday, Wednesday, Thursday and Friday of shukla paksha are considered best for conception of a male child

Lagna for Conception:

Lagna should be in line with male planets which are Sun, Mars and Jupiter. The moon also needs to be in navamsha odds. Jupiter should be positioned in the kakshya of Mars and the Sun, which are male planets.

Ayurvedic Treatment for conceiving baby boy in Hindi

Ayurveda is one of the oldest methods which has a solution for every health related problem. In the ancient times there were no doctors so people used to take ayurvedic treatments. Same is the case in the modern era, whenever there is no solution to a particular problem, people prefer to go the Ayurvedic way. Whenever you are trying to conceive a baby boy’s ayurveda has some remedies which will help you to bear a male child in your womb. Let’s have a look at ayurvedic treatments for conceiving a baby boy:

Method 1:

This method will be completed using the branches of the banyan tree. Locate any banyan tree and take out the branches which are facing north or east. After that you need to take 2 grains of urad dal and then grind all the ingredients with curd. After that consume the mixture so that you are ready to bear the male child

Method 2:

You will need to create miniature statues of iron, gold or silver and throw the statues in the furnace. After that you need to pour the molten element in curd, milk or water and you need to drink that mixture on the auspicious hour of Pushp Nakshatra.

Best Time to Conceive a Baby Boy after Periods

Periods are one of the reasons that children are born. If the female menstruates then it is a sign of a healthy female and she is ready to bear a child. The chance of the child to be boy or girl is 50-50 but these odds can be influenced which can determine the sex of the baby. It is a myth that when you need a child you will have to do as much sex as you can but people don’t realize that timing of the sex also plays an important role.

Whenever you are trying to get pregnant, try to have sex during your ovulation period. Ovulation is a process when an ovary releases a mature egg in the fallopian tube of the female and after that it moves down to the uterus. The egg has a survival period of about 12-24 hours in the uterus and when it gets fertilized with the sperm a female gets pregnant. During the ovulation period, the cervical mucus of women becomes thinner and it becomes more slippery during the ovulation period. This helps the sperms move more easily in the reproductive tract.

Best Time to Conceive baby Boy

The baby’s sex can be somewhat determined by the ovulation calendar and date of the conception. Whenever you are looking for a male child your egg needs to be fertilized by a Y-sperm which is bearer of male child. Y-sperm is lighter, smaller and they have round heads so they travel faster in the reproductive tract and have shorter life span. The couples who are trying to conceive a baby boy should avoid sex between your menstrual period and days before the ovulation period. To get a male child sex should be done on ovulation day and 2-3 days after the ovulation happens in your body. Ideal Position is to have sex in such position which will allow sperm to be deposited as close to cervix of a female.

Moreover the timing of orgasm also plays a n important role. Couples who are trying for a boy should try to let the woman orgasm first. As the secretions during orgasms of females are more alkaline in nature and male sperms travel more faster in an alkaline environment, your chances of conceiving a male child increase exponentially.

एक लड़के को जन्म देने के लिए क्या पोजीशन होनी चाहिए इंटरकोर्स करते समय ?

कैसे एक बेबी बॉय को कन्सीव किया जाए प्रेगनेंसी के दौरान इस बात पर हमेसा से एक रहस्य रहा है और बेबी बॉय कन्सीव करने के लिए अलग अलग तरह की बाते बताई जाती हैं जिनको पढ़ने पर या समझने पर पता चलता है की कितनी मूर्खता भरी सुचना दी जा रही है

जो लोग एक बेबी बॉय यानि एक लड़के को जन्म देना चाहते हैं उनको सभी तरह के फैक्टर्स पर ध्यान देने की जरुरत है

जो लोग एक लड़के को जन्म देना चाहते हैं सबसे पहले उन्हें अच्छे से यह बात समझनी होगी की कैसे और कब एक लड़की का जन्म होता है और कैसे, किस समय ,किस तरह से एक लड़के का जन्म होता है

और हम आपको ये यह बताना चाहते हैं के आज की टेक्नोलॉजी के युग में सिर्फ २ हफ्तों में ही आपको अपने होने वाले बच्चे के लिंग का पता चल जाता है

कुछ लोग तो एग को इम्प्लांट भी करवा लेते हैं ताकि होने वाला बचा एक लड़का ही हो लेकिन यह आसान और सुविधाजनक प्रक्रिया नहीं है और इसमें पैसा का काफी खर्च भी आ जाता है जो हर व्यक्ति अफ़्फोर्ड नहीं कर पता |

लेकिन इन सब प्रोसेस की बजाए ज्यादा तर माँ बाप नेचुरल प्रोसेस को अपनाते हैं जिसमे सिर्फ आपको एक एक दिन का हिसाब रख कर सावधानी पूर्वक इंटरकोर्स करना होता है और उसके लिए आपको निचे लिखे स्टेप्स फॉलो करने होते हैं

अंदर जाने के बाद स्पर्म कैसे काम करता है ?

देखिये स्पर्म ही सबसे एहम फैक्टर है जो यह तय करता है के जन्म लेने वाला बच्चा एक लड़का होगा या फिर एक लड़की। किसी भी बचे के जींस दो तरह के जेनिटिक मटेरियल से बनते हैं एक माता और दूसरे उसके पिता से ।

एग्ग हमेसा एक्स (X) प्रकार के शुक्राणु अपने पास रखता है या फिर यूँ समझ लीजिये के एग जो है एक्स(X) प्रकार के सुक्राणुओ से बना होता है और जो बहार से स्पर्म डाला जाता है उसमे से या तो एक्स (X) जाकर एक्स(X) से मिल जाता है या फिर उसका वाई(Y) जाकर एग्ग के एक्स से जाकर मिल जाता है

और बाहर से एक्स(X) का जाकर एग्ग के एक्स से मिलना एक लड़की को जन्म देता है और बाहर से वाई(Y) का जाकर एग्ग के एक्स(X) से मिलना एक लड़के को जन्म देता है

तो बस एहि हमे जानना है के कैसे हम वो सभी फैक्टर्स का ध्यान रखे जिससे की बहार से स्पर्म का वाई शुक्राणु अंदर एग के एक्स(X) से मिल जाये और होने वाले बच्चे का लिंग मेल ही हो|

और यह हम कर सकते हैं अगर अपने सेक्सुअल इंटरकोर्स का शेडूल चार्ट त्यार करले और एक एक दिन का हिसाब लगा कर उन सभी फैक्टर्स का ध्यान रखे जो की वाई शुक्राणु को अंदर एक्स से मिलने में उसकी हेल्प करे |

अब देखिये हमे सिर्फ यह एक काम करना है जोकि नेचुरल , सेफ , रिस्क फ्री और मेडिकल प्रोसेस से बिलकुल अलग है

आप को बस अपने पीरियड्स का और ओवुलेशन पीरियड का एक चार्ट त्यार करना होगा अगर आप उसमे भी कोई परेशानी महसूस करे तो आज कल इसके लिए बोहत सी मोबाइल ऍप्लिकेशन्स भी गूगल प्ले स्टोर पर अवेलबल हैं

सेक्स करते समय पोजीशन का कितना महत्व है ?

सेक्स या इंटरकोर्स करते समय अगर आप अपनी पोजीशन पर ध्यान दे तो यह आपकी पूरी तरह से हेल्प कर सकता है|

यह बहुत जरुरी है के जब स्पर्म को रिलीज़ करने का समय आये तब आप स्पर्म बिलकुल नजदीक आकर अपने अपने फीमेल पार्टनर की योनि में छोड़े जिससे वाई शुक्राणुओ के पहुँचने के सम्भावना और भी ज्यादा हो जाए |

क्यूंकि नजदीक से छोड़ने पर वाई शुक्राणु और एग्ग के बिच की दूरी कम् हो जाती है और उसके बिच में ही नष्ठ होने के चांस कम् हो जाते हैं

कुछ लोग इस बात का भी दावा करते हैं के जहा मेल यानि पुरुष सेक्स के दौरानअधिक एक्टिव हैं वहां एक लड़के को जन्म देने के चांस अधिक हो जाते हैं

वैसे हम आपको यह सलाह देंगे के पुरुष को हमेसा ही ऊपर रहना चहिए अगर आप एक लड़के को जन्म देना चाहते हैं

वही एक्सपर्ट्स ने माँ की डाइट यानि खान पान का भी महत्व बताय है एक्सपर्ट्स ने बताय के फल सब्जिया भी बच्चे के जेंडर को तय करने में बड़ा ही एहम रोले अदा करते हैं जो लोग एक लड़के को जन्म देना चाहते हैं वे अपनी डाइट पर पूरा ध्यान रखे और वही खाये जो एक लड़के के पैदा होने में मदद गार हैं, तो एक्सपर्ट के अनुसार रेड मीट जरूर खाये और नमक वाली चीज़ो का अधिक सेवन करे और कॉफ़ी भी काफी अछि बताई गायति है

और पुरुष यानि बचे के होने वाले बाप को यह एडवाइस दी जाती है के वो aaj से ही खुले कपडे पहना सुरु करदे yani के jitna हो सके जीन्स को त्याग दे जो आपके स्क्रोटम को टाइट रखते हैं घर में अगर हैं तो बॉक्सर का अधिक से अधिक उपयोग करे ताकि उनको हवा मिलती रहे और और लौ तेमरतुरे भी मिले जायद हाई टेम्परेटरे से उन्हें डोर रखे क्यूंकि आपका स्पर्म वही बनता है

और एक फैक्टर यह भी है के अपन स्पर्म किस समय रिलीज़ho रहा है यह भी तय करत है के होने वाला बच्चा लड़का होगा या लड़की। तो उसके लिए यह बताय गया है के kosis करे male यानि पुरुष का स्पर्म पहले रेलाइसे हो जाये और फीमेल यानि स्त्री का बाद में रिलीज़ होना किये तो इससे भी लड़का पैदा होने के चणक अधिक हो जाते हैं इससे स्पर्म का एग्ग तक्क पहुँचने के चाणक्य अधिक हो जाते हैं क्यूंकि स्पर्म तेज़ी से नादर जाएगा और वे शुक्राणु के डेडna होने के चान्सेस कम् हो जाएंगे।

आप जो बच्चा चाहते हो वो लड़का हो या लड़की ?

पुरुष शुक्राणु में एक्स और वाई शुक्राणु होता है, शुक्राणु एक्स और वाई निर्धारित करते हैं कि महिला आदमी है। उपरोक्त शुक्राणु की शारीरिक विशेषताओं के आधार पर, आनुवंशिकीविद एक बच्चे के लड़के या लड़की को जन्म देने के लिए चुनते हैं।

फैक्टर १ : भोजन

अगर आप एक बच्ची चाहते हैं

पति को ऐसे खाद्य पदार्थ खाना चाहिए जिनमें बहुत से क्षारीय होते हैं, जबकि उनकी पत्नी बहुत सारे अम्लीय खाद्य पदार्थ खाती है।

खाद्य पदार्थ जिनमें बहुत से क्षारीय होते हैं: सब्जियां, फल, अंडे का सफेद, दूध, और समुद्री शैवाल।
बहुत सारे एसिड युक्त खाद्य पदार्थ मांस और समुद्री भोजन (समुद्री भोजन) हैं।

अगर आप एक बच्चा चाहते हैं जो लड़का हो

पति के पास बहुत सारे खाद्य पदार्थ होते थे जिनमें बहुत से एसिड होते थे, जबकि पत्नी के पास बहुत सारे खाद्य पदार्थ होते थे जिनमें बहुत से क्षारीय होते हैं (उपरोक्त खाद्य पदार्थ देखें)।

2. फैक्टर : समय (संभोग कब किया)

अगर आप एक बच्ची चाहते हैं।

मासिक धर्म काल से पहले दिन पर लगातार संभोग।

अगर आप एक बच्चा चाहते हैं जो लड़का हो

मासिक धर्म अवधि के दौरान लगातार मासिक धर्म की अवधि के दौरान या तुरंत या तुरंत।

मासिक धर्म के समय को कैसे जानें?

तापमान या शरीर के तापमान में वृद्धि (आप एक पैडोमीटर का उपयोग कर सकते हैं और शरीर के तापमान रिकॉर्ड कर सकते हैं)।

3. फैक्टर : प्रवेश यानी किस गहराई तक (स्टैब)

अगर आप एक बच्चा चाहते हैं जो लड़का हो

संभोग के समय पति को अपना लिंग योनि में अधिक से अधिक गहराई में ले जाना चाइये

कारण:

एक्स और वाई सेक्स सेल के चरित्र

शुक्राणु एक्स: इसका स्टैमिना बोहत अधिक होता है और लम्बी दूरी तक जा सकता है गति स्लो होती है
वाई शुक्राणु : इसका स्टामिआं कम् होता है और तेज़ गति से जाता है और कम् दूरी तय करता है

तो लिंग को गहराई तक्क ले जाने से वाई शुक्राणु के अंदर तक्क पहुँचने की सम्भावना बढ़ जाती है

फैक्टर 4. स्टिमुलस यानी कितनी उत्तेजना होनी किये

अगर आप एक बच्ची चाहते हैं।

पत्नी को संभोग के दौरान उत्तेजना से बचना चाहिए। जननांग एकाग्रता से स्राव निर्वहन उत्तेजित होने पर क्षारीय हो जाता है, इससे गतिविधि spematozoa वाई को प्रोत्साहित किया जाएगा। यानी वाई के एक्टिव होने के चान्सेस बढ़ जाते हैं

अगर आप एक बच्चे को लड़का चाहते हैं।

तो फेल पति उत्तेजित और जब्ब पतों का वीर्य डिस्चार्ज हो जाए फिर पत्नी को उत्तेजित होना किये

फैक्टर ५: पत्नी

अगर आप एक बच्चा चाहते हैं जो लड़का हो

बेकिंग सोडा के दो चम्मच पानी में डाल कर योनि को अचे धो ले

6. फैक्टर स्थिति यानि पोजीशन ऑफ़ सेक्स

अगर आप एक बच्चा चाहते हैं जो लड़का हो

तो इंटरकोर्स क दौरान पति को ऊपर रहना किये

नीचे दी गई तालिका आपको पैदा होने वाले बच्चे के लिंग की भविष्यवाणी करने में मदद करेगी।
नीचे दी गई तालिका की शुद्धता हजारों लोगों द्वारा सिद्ध की गई है और यह 99% सटीक माना जाता है।

इस पर विश्वास करें या नहीं।
—–

तकनीक ही एक बच्चे के लिंग तय करती है

शुक्राणु 2 प्रकार के होते हैं:

एक्स शुक्राणु (मादा के लिए)
वाई शुक्राणु (पुरुष के लिए)

शुक्राणु एक्स में निम्नलिखित विशेषताएं हैं:

– अधिक होते हैं
– धीमा चलते हैं
– इनकी वैलिडिटी 72 घंटे से अधिक (3 दिन), 7 दिन भी दर्ज की गई है
– योनि के अम्लीय वातावरण के लिए अधिक प्रतिरोधी होते हैं इसी लिए लड़की के लिए योनि को सिरका से धोया जाता है

वाई शुक्राणु में निम्नलिखित विशेषताएं हैं:

– छोटे होते हैं
– धीरे चलते हैं
– 48 घंटे (2 दिन) का सबसे लंबा जीवनकाल यानि वैलिडिटी है
– योनि के क्षारीय पीएच पर्यावरण के लिए अधिक प्रतिरोधी।

एक कैलकुलेटर ovulation या ovulation predictor परीक्षण किट के साथ, बेसल शरीर के तापमान, अल्ट्रासाउंड के साथ ovulation कैसे निर्धारित करें।

एक लड़का पाने के लिए:

1) अंडाशय के दिन सम्भोग करें और उससे एक दिन पहले भी सेक्स करे

2) जब पति का वीर्य छूटने लगे तो कोसिस करे के अधिक से अधिक मात्रा में छूटे और वीर्य की एक भी बूँद बहार न निकलने दे और अधिक घेरे तक्क लिंग को दाल कर रखे और ये सबब उस पोजीशन में करे जिसमे पति ऊपर हो जिससे अधिक एक्स शुक्राणु गर्भस्य तक्क पहुंचेंगे

3) ज्यादा एक्स बनाने क लिए अधिक वीर्य बनाये और अधिक वीर्य बनाने क लिए ओवोलुशन से ७ दिन पहले सेक्स न करे

पितृत्व सबसे पोषित भावनाओं में से एक है कभी उनके विवाहित अवधि के दौरान एक जोड़े द्वारा अनुभवी । एक जोड़े के जीवन में बच्चा अपने परिवार को पूरा करता है और माता-पिता अपने बच्चे को बढ़ते देखकर आनंद लेते हैं और उनके लिए हर संभव प्रयास करते हैं। एक बालिका और लड़के के बच्चे की पैरेंटिंग के अलग-अलग तरीके हैं। हालांकि आधुनिक युग में प्रत्येक बच्चा माता-पिता के लिए समान रूप से महत्वपूर्ण है, लेकिन फिर भी देश के कुछ हिस्सों में पुरुष बच्चा होने का जुनून है । लोग एक पुरुष बच्चे को गर्भ धारण करने के लिए विभिन्न तरीकों से प्रयास करते हैं लेकिन कभी-कभी भाग्य उनका पक्ष नहीं लेता है और वे पुरुष बच्चे को प्राप्त करने के लिए हर संभव तरीके से प्रयास करते हैं। इस लेख में हम हिंदू पौराणिक कथाओं के अनुसार एक पुरुष बच्चे को गर्भ धारण करने के तरीके के बारे में मार्गदर्शन करेंगे और महिला के समय सहित विभिन्न अन्य ग्रहों के कारकों की व्याख्या भी करेंगे जब वह निश्चित रूप से एक बच्चे के लड़के को गर्भ धारण करेगी।

How to Conceive a Baby Boy According to Hindu Mythology in Hindi?

हालांकि एक बच्चे के लड़के को गर्भ धारण करने के लिए एक निश्चित शॉट विधि नहीं है, यदि आप हिंदू पौराणिक कथाओं में निर्धारित कुछ नियमों का पालन करते हैं, तो आपके पास एक बच्चे के लड़के को गर्भ धारण करने में बेहतर मौका होगा। उनके अनुसार आप एक पुरुष बच्चे को गर्भ धारण करने के लिए अपने बेटे और चंद्रमा पैनापन की जरूरत है। आइए कुछ सुझावों पर एक नज़र डालें जो सहायक होंगे यदि आप अपने पितृत्व को गले लगाने के लिए एक बच्चे के लड़के की तलाश कर रहे हैं:

  • विधि का पालन करने से पहले कम से कम 2 महीने पहले गर्भनिरोधक गोलियों से बचें और कम से कम एक सप्ताह के लिए अच्छे मूड में रहें। एक बात और है कि आपको कम से कम एक महीने तक सेक्स करना बंद करने की जरूरत है ताकि आपके शरीर को खुद को पुनर्जीवित करने के लिए प्रजनन तरल पदार्थ हो।
  • सबसे पहले उस समय की गिनती शुरू करें जब आप पहले खून करते हैं, यह आपकी अवधि का पहला दिन है। एक संदर्भ के लिए हम कहते हैं कि आप बुधवार 5 बजे रक्त देखते हैं, इसलिए आपका दिन 1 गुरुवार 5 बजे समाप्त हो जाएगा।
  • अपने पीरियड्स के दौरान सेक्स से बचें और इन समय के दौरान कोई काम भी न करें।
  • एक साथ श्वास तकनीक का अभ्यास करें और आपको प्रक्रिया के लिए जाने से पहले एक साथ कुछ पढ़ने की कोशिश करनी चाहिए।
  • अब मुख्य हिस्सा आता है जो सेक्स कर रहा है। जब भी आप बच्चे की तलाश में होते हैं तो आप अपने पीरियड्स खत्म होने के बाद 2, 4, 6, 8वें दिन भी सेक्स करने की कोशिश करते हैं । पीरियड्स के बाद 8वें, 10वें, 12वें दिन पुरुष बच्चे को गर्भ धारण करने के लिए सबसे अच्छा होता है।
  • पत्नी को हमेशा पति के बाईं ओर सोना चाहिए और श्वास की स्थिति लागू होने तक प्रणय निवेदन के दौरान अपने पति का सामना करना चाहिए।
  • सेक्स उन अनुशंसित दिनों पर किया जाना चाहिए और ग्रहों की स्थिति के अनुसार है कि सूर्य पुरुषों के लिए अधिक शक्तिशाली है कि एक पुरुष की सांस ले रहा है अपने दाहिने नथुने से अधिक शक्तिशाली है और महिला श्वास बाएं नथुने से अधिक शक्तिशाली है । सांस लेने के लिए शक्तिशाली होने के लिए आपको 5 मिनट से अधिक समय तक अपने साथी के साथ फोरप्ले करने की आवश्यकता है। नाक के एक तरफ बंद करके सांस की जांच की जा सकती है।

 आयुर्वेद के अनुसार जब आप अपने पार्टनर को गर्भवती करने की कोशिश कर रहे हैं तो आपको इस अवधि से 10-15 दिन से सेक्स करना चाहिए क्योंकि यह गर्भ धारण करने का सबसे अच्छा समय है । कम से कम 2 महीने तक गर्भवती होने के बाद योनि सेक्स से बचें।

How to Conceive a Baby Boy Indian Calendar in Hindi

बच्चा लड़का कई जोड़ों के लिए एक लक्ष्य है। अगर हम हिंदू कैलेंडर से जाते हैं तो कुछ दिन ऐसे होते हैं जहां आप गर्भधारण के लिए जा सकते हैं और महिला एक पुरुष बच्चे को सहन करेगी । जैसा कि मासिक धर्म के बाद के दिनों में भी उल्लेख किया गया है, बच्चे के लड़कों के लिए सबसे अच्छा है, फिर भी कुछ नक्षत्र और लग्न हैं जो तब फायदेमंद होते हैं जब आप पुरुष बच्चे को गर्भ धारण करने की कोशिश कर रहे होते हैं। भारतीय कैलेंडर के अनुसार एक बच्चे को गर्भ धारण करने के लिए यहां कुछ तिथियां हैं जो सबसे अच्छी हैं जब आप एक amle बच्चे के लिए जा रहे हैं:

गरभाणा संस्कार शोदशा संस्कारों का पहला संस्कार है जिसे पूर्व नियोजित पारिवारिक प्रसंग माना जाता है। गर्भवती मुहूर्त एक ऐसी अवधारणा है, जिसमें पति-पत्नी धार्मिक पवित्रता के साथ सही समय पर अपनी संतान की योजना बनाने के लिए मिलते हैं। गर्भवती संसार महिला गर्भधारण और प्रजनन प्रणाली से संबंधित सभी अशुद्धियों को दूर करने में मदद करता है जो स्वस्थ बच्चे के जन्म को सुनिश्चित करता है।

यहां ग्रहों की स्थिति के अनुसार सबसे अच्छा समय का विवरण दिया गया है जो हिंदू कैलेंडर के अनुसार निर्धारित हैं ।

Time of Conception:

गर्भधारण करना 8, 10, 12, 14 और 16 तारीख को मासिक धर्म के बाद करना चाहिए क्योंकि ये दिन शुभ माना जाता है।

Nakshatras to Consider for Conception:

कुछ तय नक्षत्र ऐसे होते हैं जो गर्भधारण के लिए सबसे अच्छा समय माना जाता है। 

Good Nakshatras: Anuradha, Dhanistha, Hastha, Mrigshira, Rohini, shatabhisha , Swati, Uttara-bhadrapada,Uttara-phalguni and Uttara-shada 

Bad Nakshatras: Ardra, Ashlesha, Bharni, Jyestha, Krittika, Magha, Moola, Poorva-bhadrapada,Poorva-phalguni, Poorva-shadha, Revati

Tithes for Conception:

हिंदू कैलेंडर के अनुसार गर्भधारण के लिए सबसे अच्छा तिथी 1,3,3,5,7,10,12,13 हैं। मेल बच्चे 4,9,14, 6, 8, 11 के लिए इन तिथी पर गर्भधारण करने से बचें। अमावस्या और पूर्णिमा की रात भी गर्भधारण करने से बचना चाहिए।

Days for Conception:

शुक्ल पक्ष का सोमवार, बुधवार, गुरुवार और शुक्रवार पुरुष बच्चे को गर्भधारण करने के लिए श्रेष्ठ माना जाता है। 

Lagna for Conception:

लग्न पुरुष ग्रहों के अनुरूप होना चाहिए जो सूर्य, मंगल और बृहस्पति हैं। चंद्रमा को भी नवरात्र की बाधाओं में होने की जरूरत है। बृहस्पति को मंगल और सूर्य के कात्यायनी में तैनात रहना चाहिए, जो पुरुष ग्रह हैं।

Ayurvedic Treatment for conceiving baby boy in Hindi

आयुर्वेद सबसे पुरानी विधियों में से एक है जिसका समाधान स्वास्थ्य से जुड़ी हर समस्या का होता है। प्राचीन काल में कोई डॉक्टर नहीं थे इसलिए लोग आयुर्वेदिक उपचार लेते थे। आधुनिक युग में भी यही स्थिति है, जब भी किसी विशेष समस्या का समाधान नहीं होता है तो लोग आयुर्वेदिक मार्ग पर जाना पसंद करते हैं। जब भी आप गर्भ धारण करने की कोशिश कर रहे होते हैं तो बच्चे के आयुर्वेद में कुछ उपाय होते हैं जो आपको अपने गर्भ में पुरुष बच्चे को सहन करने में मदद करेंगे। आइए एक बच्चे के बच्चे को गर्भ धारण करने के लिए आयुर्वेदिक उपचारों पर एक नज़र डालें:

Method 1:

बरगद के पेड़ की शाखाओं का उपयोग करते हुए इस विधि से कार्य पूरा किया जाएगा। किसी भी बरगद के पेड़ का पता लगाएं और उन शाखाओं को बाहर निकालें जो उत्तर या पूर्व की ओर हैं। इसके बाद आपको उड़द की दाल के 2 दाने लेने चाहिए और फिर सारी सामग्री दही के साथ पीस लें। उसके बाद मिश्रण का उपभोग करें ताकि आप पुरुष बच्चे को सहन करने के लिए तैयार हों

Method 2:

आपको लोहे, सोने या चांदी की लघु मूर्तियां बनाने और मूर्तियों को भट्ठी में फेंकने की आवश्यकता होगी। उसके बाद आपको दही, दूध या पानी में पिघला हुआ तत्व डालना चाहिए और आपको पुष्य नक्षत्र के शुभ समय पर उस मिश्रण को पीना चाहिए।

Best Time to Conceive a Baby Boy after Periods in Hindi

पीरियड्स एक कारण होता है कि बच्चे पैदा होते हैं। यदि मादा मासिक धर्म है तो यह एक स्वस्थ महिला का संकेत है और वह एक बच्चे को सहन करने के लिए तैयार है। बच्चे को लड़का या लड़की होने का मौका 50-50 है लेकिन इन बाधाओं को प्रभावित किया जा सकता है जो बच्चे के लिंग का निर्धारण कर सकते हैं। यह एक मिथक है कि जब आपको बच्चे की जरूरत होगी तो आपको उतना ही सेक्स करना होगा जितना आप कर सकते हैं लेकिन लोगों को पता नहीं है कि सेक्स की टाइमिंग भी महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है ।

जब भी आप प्रेग्नेंट होने की कोशिश कर रही हों तो अपने ओव्यूलेशन पीरियड के दौरान सेक्स करने की कोशिश करें। ओव्यूलेशन एक प्रक्रिया है जब एक अंडाशय मादा की फैलोपियन ट्यूब में एक परिपक्व अंडा जारी करता है और उसके बाद यह गर्भाशय में नीचे जाता है। अंडे के गर्भाशय में लगभग 12-24 घंटे की जीवित रहने की अवधि होती है और जब यह शुक्राणु के साथ निषेचित हो जाता है तो एक महिला गर्भवती हो जाती है। ओव्यूलेशन पीरियड के दौरान महिलाओं का सर्वाइकल बलगम पतला हो जाता है और ओव्यूलेशन पीरियड के दौरान यह ज्यादा फिसलन हो जाती है। इससे शुक्राणुओं को प्रजनन पथ में अधिक आसानी से आगे बढ़ने में मदद मिलती है।

Best Time to Conceive baby Boy in Hindi

बच्चे का सेक्स कुछ हद तक ओव्यूलेशन कैलेंडर और गर्भधारण की तारीख से तय हो सकता है। जब भी आप एक पुरुष बच्चे की तलाश में होते हैं तो आपके अंडे को वाई-स्पर्म द्वारा निषेचित करने की आवश्यकता होती है जो पुरुष बच्चे का वाहक होता है। Y-शुक्राणु हल्का, छोटा है और उनके पास गोल सिर होते हैं इसलिए वे प्रजनन पथ में तेजी से यात्रा करते हैं और जीवन काल कम होते हैं। जो जोड़े बच्चे को गर्भ धारण करने की कोशिश कर रहे हैं, उन्हें आपके मासिक धर्म और ओव्यूलेशन पीरियड से कुछ दिनों पहले सेक्स से बचना चाहिए। पुरुष बच्चे को पाने के लिए सेक्स ओव्यूलेशन डे पर और 2-3 दिन बाद ओव्यूलेशन आपके शरीर में होता है। आदर्श स्थिति ऐसी स्थिति में यौन संबंध बनाना है जो शुक्राणु को मादा के गर्भाशय ग्रीवा के करीब जमा करने की अनुमति देगा।

इसके अलावा संभोग के समय भी एक एन महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। जो जोड़े एक लड़के के लिए कोशिश कर रहे हैं, उन्हें पहले महिला को संभोग करने की कोशिश करनी चाहिए। चूंकि महिलाओं के संभोग के दौरान स्राव प्रकृति में अधिक क्षारीय होते हैं और पुरुष शुक्राणु क्षारीय वातावरण में अधिक तेजी से यात्रा करते हैं, इसलिए पुरुष बच्चे को गर्भ धारण करने की संभावना तेजी से बढ़ती है।

  1. Lower the Room Temperature
  2. Use the 4-7-8 Breathing Method
  3. Get on a Schedule
  4. Experience Both Daylight and Darkness
  5. Practice Yoga, Meditation and Mindfulness
  6. Do Not Look at Your Clock
  7. Avoid Naps During the Day
  8. Watch What and When You Eat
  9. Listen to Relaxing Music
  10. Exercise During The Day
  11. Get Comfortable
  12. Turn Off All Electronics
  13. Try Aromatherapy
  14. Practice Journaling
  15. Limit Caffeine and Drink a Soothing Beverage
  16. Adjust Your Sleep Position
  17. Read Something
  18. Focus on Trying to Stay Awake
  19. Visualize Things That Make You Happy
  20. Try Sleep-Enhancing Supplements

personal loan nahi bhara to kya hoga

आप किसी भी उद्देश्य के लिए पर्सनल लोन का उपयोग कर सकते हैं जैसे कि उच्च शिक्षा, छोटे घर के नवीकरण के काम, बेटी की शादी, बड़ी टिकट खरीद, विदेशी छुट्टी, या यहां तक ​​कि एक चिकित्सा आपातकाल के मामलों में भी। लेकिन जब आप पर्सनल लोन लेते हैं, तो आपको इसे लोन की अवधि के दौरान किस्तों में लागू ब्याज दरों के साथ चुकाना होता है। और आपको इसके लिए अनुशासित रहने की आवश्यकता है।

क्या आप जानते हैं कि यदि पर्सनल लोन का भुगतान नहीं किया जाता है तो क्या होता है? पर्सनल लोन का भुगतान न करने की स्थिति में एक ऋणदाता क्या कार्रवाई कर सकता है? या डिफाल्टर जेल जाएगा?

पर्सनल लोन चुकाने में असफल होने के परिणामों पर कूदने से पहले, हम डिफॉल्टरों के प्रकारों को समझते हैं।

1. लापरवाह कर्जदार:

लापरवाह कर्जदारों में वे व्यक्ति शामिल होते हैं जो पर्सनल लोन लेने से पहले अपने ईएमआई / एनएमआई अनुपात यानी आय / व्यय संतुलन का विश्लेषण किए बिना अत्यधिक पर्सनल लोन लेते हैं। भुगतान की नियत तिथि नजदीक आने और इसलिए ऋण पर डिफ़ॉल्ट होने पर ये लोग ऋण चुकाने के लिए धन एकत्र नहीं कर सकते।

2. विलफुल डिफॉल्टर:

विलफुल डिफॉल्टर वह व्यक्ति या संस्था होती है, जो इसे चुकाने की क्षमता के बावजूद कर्ज नहीं चुकाता है। विलफुल डिफॉल्टर्स लेंडर को गेम करने की कोशिश करते हैं और सोचते हैं कि वे कर्ज न चुकाने की गलत व्याख्या देकर लेंडर्स को गुमराह कर सकते हैं। RBI के नियमन के अनुसार, विभिन्न कारणों से विलफुल डिफॉल्ट होता है- पर्याप्त नकदी प्रवाह के बावजूद ऋण का जानबूझकर भुगतान न करना, डिफॉल्टिंग यूनिट को फंड्स की छूट देना, परिसंपत्तियों और आय की गलत जानकारी, और उधारकर्ता द्वारा धोखाधड़ी लेनदेन। । विलफुल डिफॉल्टर्स पर भारतीय दंड संहिता की धारा 420 के तहत मामला दर्ज किया जाता है और शायद उन्हें जेल भी हो सकती है।

3. वास्तविक डिफॉल्टर:

कुछ लोग हैं जो लंबे समय से नियमित रूप से समय पर अपनी ईएमआई का भुगतान कर रहे हैं, लेकिन कुछ वास्तविक कारणों, जैसे नौकरी छूटना, चिकित्सा आपातकाल, अपर्याप्त नकदी के कारण ऋण वापस नहीं कर पा रहे हैं प्रवाह, और भी बहुत कुछ। वास्तविक समस्याओं का सामना करने वाले उधारकर्ताओं के पास उनके अधिकार हैं और ऋणदाता द्वारा किसी भी प्रकार की यातना के अधीन नहीं हो सकते हैं।

पर्सनल लोन चुकाने में असफल होने के गंभीर परिणाम


1. आपका क्रेडिट स्कोर भुगतना होगा:

जब कोई उधारकर्ता ऋण या क्रेडिट कार्ड के लिए आवेदन करता है, तो ऋण उधारकर्ता और क्रेडिट कार्ड उपयोगकर्ता की सभी क्रेडिट संबंधित जानकारी CIBIL और अन्य क्रेडिट ब्यूरो को भेज दी जाती है। इसलिए, यदि कोई उधारकर्ता पर्सनल लोन या क्रेडिट कार्ड में चूक करता है, तो यह उधारकर्ता के क्रेडिट स्कोर पर भारी टोल लगेगा। परिणामस्वरूप, डिफॉल्टर को समस्याओं का सामना करना पड़ेगा या भविष्य में ऋण या क्रेडिट कार्ड प्राप्त करने में सक्षम नहीं होंगे।

2. लेंडर से फॉलो-अप:

जैसे ही आप एक किश्त मिस करते हैं, फॉलो-अप शुरू हो जाता है। बैंक उधारकर्ताओं के साथ पत्र या ईमेल के माध्यम से ब्याज और दंड शुल्क के साथ अतिदेय राशि का उल्लेख करते हुए अनुवर्ती कार्रवाई करेगा। कुछ कानूनी कार्रवाइयां आपके ऋण को 3 महीने से अधिक समय तक चुकाने में विफलता का अनुसरण कर सकती हैं।

3. संपार्श्विक की जब्ती:

एक सुरक्षित पर्सनल लोन के मामले में, बैंक संपत्ति का परिसमापन कर सकता है, आपने पर्सनल लोन के लिए आवेदन करते समय संपार्श्विक के रूप में पेशकश की, मूलधन और ब्याज की वसूली के लिए। यदि गारंटर के समझौते के अनुसार, सह-आवेदक या गारंटर है, तो बैंक गारंटर से संपर्क कर सकता है और मुख्य आवेदक के चूक जाने पर ऋण चुकाने के लिए बाध्य कर सकता है।

4. कानूनी कार्यवाही:

यदि आप कई अनुस्मारक के बावजूद ऋण चुकाने में विफल रहते हैं, तो यह ऋणदाता को आपके खिलाफ कानूनी कार्यवाही करने के लिए प्रेरित करेगा। बैंक आपके बचत खाते को ब्लॉक कर सकता है या आपके खिलाफ आपराधिक मामला भी दर्ज कर सकता है।

5. पोस्ट डेटेड चेक का उपयोग:

बैंक आमतौर पर लोन देने के समय हस्ताक्षरित, अनडिकेटेड चेक रखते हैं। जब आप ऋण भुगतान पर चूक करते हैं, तो बैंक निकासी के लिए हस्ताक्षरित चेक पेश कर सकते हैं। चेक अनादर के मामले में, बैंक आपके खिलाफ निगोशिएबल इंस्ट्रूमेंट एक्ट की धारा 138 ए के तहत आपराधिक मामला दर्ज कर सकता है। और नियम के अनुसार गिरफ्तारी की जा सकती है।

इसलिए, यदि आप कुछ वित्तीय मुद्दों के कारण बैंक को भुगतान करने में असमर्थ हैं, तो आपके लिए अपने ऋणदाता से बात करने और इस मुद्दे पर बातचीत करने की अत्यधिक अनुशंसा की जाती है।

कैसे एक अवैतनिक ऋण बातचीत करने के लिए?


यदि आप कुछ वित्तीय समस्याओं का सामना कर रहे हैं, तो उस बैंक या एनबीएफसी से संपर्क करें, जिससे आपने ऋण प्राप्त किया है। यदि आपका ऋणदाता RBI प्रमाणित ऋण प्रदाता है और यदि आप अपनी वित्तीय समस्याओं के बारे में पहले से सूचित करते हैं, तो बैंक आपकी सहायता करने के लिए सब कुछ करेगा और आप मुसीबत में नहीं पड़ेंगे। बैंक आपको नीचे दिए गए कुछ तरीकों से मदद कर सकते हैं:

1. ईएमआई कम करें:

यदि आप समय पर ऋण चुकाने में सक्षम नहीं हैं, तो बैंक पुनर्गठन के ऋण पुनर्निर्धारण के रूप में जाना जाने वाला ऋण कार्यकाल बढ़ाकर ईएमआई को कम कर सकता है। EMI कम करने से आपको छोटी राशि के साथ ऋण चुकाने में मदद मिल सकती है। हालांकि, ऋण अवधि को एक विशिष्ट सीमा तक नहीं बढ़ाया जा सकता है।

2. असुरक्षित ऋणों को सुरक्षित ऋणों में परिवर्तित करना:

बैंक EMI को कम करने के लिए एक असुरक्षित ऋण को सुरक्षित ऋण में परिवर्तित कर सकता है।

और पढ़ें: सुरक्षित बनाम असुरक्षित ऋण: जो बेहतर है?

3. ईएमआई मुक्त अवधि:

यदि आप अपर्याप्त नकदी प्रवाह के कारण ऋण चुकाने में सक्षम नहीं हैं, तो इस प्रकार की सुविधा आपकी मदद कर सकती है। नौकरी छूटने, व्यापार में हानि, चिकित्सा आपातकाल, अपरिहार्य खर्चों के मामले में, बैंक 2 से 8 महीने के लिए ईएमआई संग्रह को कुछ समय के लिए माफ करने पर सहमत हो सकता है। आपके नकदी प्रवाह के ट्रैक पर आने के बाद, आप EMI भुगतान फिर से शुरू कर सकते हैं। हालांकि, लंबे समय के लिए ऋण चुकाने में असमर्थता आपके और ऋणदाता के बीच अच्छे संबंध को प्रभावित करेगी।

4. ऋण निपटान:

कभी-कभी, एक उधारकर्ता अब और भविष्य में ऋण का भुगतान करने में सक्षम नहीं हो सकता है। लेकिन वह एक बार और सभी के लिए ऋण का एक हिस्सा चुकाकर ऋण का निपटान करने को तैयार है। बैंक इस प्रस्ताव को स्वीकार कर सकता है क्योंकि यह बैंक कम से कम अपने ऋण के कुछ हिस्से की वसूली कर सकता है। हालाँकि, ऋण निपटान के कारण, आपके क्रेडिट स्कोर को बहुत नुकसान होगा।

कोविद 19 लॉकडाउन के दौरान अगर आपकी ईएमआई छूट गई है तो क्या करें?


RBI ने घोषणा की है कि “सभी बैंकों और NBFC को 1 मार्च, 2020 को बकाया ऋणों के EMI चुकाने पर 3 महीने की मोहलत देने की अनुमति दी गई है”। निर्णय का उद्देश्य उधारकर्ताओं पर लॉकडाउन के प्रभाव को कम करना है। इस लॉकडाउन के दौरान अगर आपने अपना लोन EMI मिस कर दिया है, तो आप इसे बाद के महीने में भुगतान कर सकते हैं या 3 महीने तक और भी स्थगित कर सकते हैं। यह आपके CIBIL स्कोर को नकारात्मक रूप से प्रभावित नहीं करेगा।

हालांकि, यह स्पष्ट रूप से कहा गया है कि इन 3 महीनों के लिए ब्याज को चक्रवृद्धि किया जाएगा और ऋण के कार्यकाल का विस्तार करके इसे पुनर्प्राप्त किया जाएगा। यदि आपको कोई ईएमआई चुकानी हो या लॉकडाउन के कारण 3 महीने तक इसे टालना हो तो आपको अतिरिक्त ब्याज का भुगतान करना होगा। यह आपके ऋण के कार्यकाल पर निर्भर करेगा और यदि आप अपने ऋण का पूर्व भुगतान कर सकते हैं।

क्या आपके चेहरे पर काले धब्बे या रंजकता के निशान हैं जो दूर नहीं होते हैं? क्या आप लगातार इन काले धब्बों के बारे में चिंता करते हैं और हर बार जब आप बाहर निकलते हैं तो खुद को मेकअप से ढंकते हैं। यदि आप इन स्थितियों से अच्छी तरह से संबंधित हैं, तो यह आपकी त्वचा को बेहतर ढंग से समझने और अपने काले धब्बों से छुटकारा पाने के लिए एक स्थायी समाधान की पहचान करने का समय है।

हर समस्या का मूल कारण होता है, और इसका इलाज करने के लिए इसकी स्थिति की तह तक जाना आवश्यक है। तो, आइए यह समझकर शुरू करें कि आपकी त्वचा पर काले धब्बे क्यों विकसित होते हैं।

आपने मेलेनिन नामक एक प्राकृतिक वर्णक के बारे में सुना होगा जो त्वचा में मौजूद होता है। यह विशेष रूप से वर्णक त्वचा, आंखों और यहां तक ​​कि आपके बालों के रंग के लिए जिम्मेदार है। यह अविश्वसनीय है कि दुनिया भर में लोगों की भौतिक उपस्थिति में इतनी विविधता के लिए एक वर्णक कैसे जिम्मेदार है! हर एक व्यक्ति में मेलानोसाइट्स के समान संख्या में कोशिकाएं होती हैं जो मेलेनिन का निर्माण करती हैं। यह अंतर है कि ये कोशिकाएं किस तरह से व्यवहार करती हैं जिसके परिणामस्वरूप लोगों के बीच अलग-अलग रंग की त्वचा होती है।

लेकिन हमारी त्वचा, आंखों और यहां तक ​​कि बालों का रंग प्रदान करना मेलेनिन का एकमात्र उद्देश्य नहीं है।

यह त्वचा को सूरज के हानिकारक प्रभावों से भी बचाता है। जब भी आपकी त्वचा सूरज के संपर्क में होती है, तो मेलानोसाइट्स (कोशिकाएं जो मेलेनिन का उत्पादन करती हैं) मेलेनिन का उत्पादन बढ़ाती हैं। और कभी-कभी, वे सामान्य से अधिक मेलेनिन का उत्पादन करते हुए ओवरड्राइव में चले जाते हैं, जिसके परिणामस्वरूप काले धब्बे होते हैं।

एक अन्य समस्या जो काले धब्बों के साथ घनिष्ठ रूप से जुड़ी हुई है वह है त्वचा रंजकता। तो, आइए समझते हैं कि त्वचा का रंजकता क्या है और यह काले धब्बों से कैसे संबंधित है। इस लेख में बाद में, हम चेहरे और शरीर पर काले धब्बे के कारणों का पता लगाएंगे और काले धब्बों से छुटकारा पाने के लिए कुछ प्राकृतिक उपचारों को सूचीबद्ध करेंगे। अंत में, हम इस तरह के काले धब्बे की उपस्थिति को कम करने के लिए कुछ निवारक उपायों को देख रहे होंगे। आएँ शुरू करें।

स्किन पिगमेंटेशन क्या है?

अक्सर, हम लोगों को त्वचा रंजकता या हाइपरपिग्मेंटेशन जैसे शब्दों का उपयोग करते हुए सुनते हैं। ये शब्द आमतौर पर अंधेरे स्थानों के साथ परस्पर उपयोग किए जाते हैं। लेकिन, क्या वे एक ही चीज हैं या दोनों में अंतर है?

त्वचा की रंजकता या हाइपरपिग्मेंटेशन एक व्यापक शब्द है जिसका उपयोग त्वचा के काले धब्बे या पैच या यहां तक ​​कि सामान्य काले रंग का वर्णन करने के लिए किया जाता है। हमें हमारी त्वचा का रंग देने के लिए जिम्मेदार मेलेनिन वर्णक आमतौर पर त्वचा में समान रूप से वितरित किया जाता है। हमने इस बारे में बात की है कि जब त्वचा के कुछ हिस्से बाकी हिस्सों की तुलना में अधिक मेलेनिन का उत्पादन करते हैं तो काले धब्बे कैसे होते हैं। यह विभिन्न कारकों जैसे सूर्य की हानिकारक यूवी किरणों के संपर्क में आने या यहां तक ​​कि हार्मोन के कारण भी हो सकता है। डार्क स्पॉट त्वचा रंजकता का सिर्फ एक रूप है और हम इस लेख में उनके बारे में बात करेंगे।

 

हालाँकि, त्वचा के विभिन्न प्रकार के रंजकता के रूप में अच्छी तरह से कर रहे हैं – freckles, melasma, काले घेरे, आदि। उनमें से प्रत्येक अलग-अलग कारणों से होता है। उदाहरण के लिए, freckles सूर्य के प्रकाश के लिए एक सामान्य प्रतिक्रिया है और बहुत कम उम्र में दिखाई देने लगते हैं। दूसरी ओर उम्र के धब्बे, गहरे धब्बे होते हैं और बड़े होने पर विकसित होने लगते हैं। मेलास्मा त्वचा पर रंजकता है जो गहरे भूरे पैच के रूप में दिखाई देता है, ज्यादातर गालों पर। कभी-कभी, चोट और सूजन अंधेरे धब्बों को भी पीछे छोड़ सकते हैं। इन्हें पोस्ट-इन्फ्लेमेटरी पिगमेंटेशन कहा जाता है। आँखों के चारों ओर काले घेरे भी एक सामान्य प्रकार की त्वचा रंजकता है जो हमें सुस्त और थकी हुई दिखती है। पिग्मेंटेशन का प्रकार जो भी हो, इसे अच्छी सन स्क्रीनिंग आदतों को विकसित करके प्रबंधित किया जा सकता है।

चेहरा और शरीर पर मर जाता है?


जैसा कि पहले बताया गया है, डार्क स्पॉट तब होते हैं जब त्वचा के कुछ हिस्से अन्य क्षेत्रों की तुलना में अधिक मेलेनिन का उत्पादन करते हैं। सूर्य के संपर्क में आने के अलावा, हार्मोनल परिवर्तन, सूजन, मधुमेह जैसी स्थितियां भी मेलेनिन के उत्पादन को प्रभावित करती हैं। डार्क स्पॉट के पीछे सबसे आम कारणों में से कुछ नीचे चर्चा की गई है:

हार्मोनल परिवर्तन:


हार्मोनल परिवर्तन त्वचा रंजकता का एक प्रमुख कारण हो सकता है, खासकर महिलाओं के लिए। मेल्स्मा एक प्रकार का त्वचा रंजकता है जो अंधेरे पैच के रूप में प्रकट होता है, आमतौर पर गाल या माथे पर। यह स्थिति गर्भावस्था के बाद प्रचलित है।

सूर्य अनावरण:


सूरज की हानिकारक यूवी किरणों के संपर्क में आने से त्वचा पर काले धब्बे पड़ सकते हैं। फ्रीकल्स, सनस्पॉट्स, सोलर लेंटिगाइन या लिवर स्पॉट्स पिग्मेंटेशन के सबसे आम प्रकार हैं जिन्हें सूरज के संपर्क में आने के कारण विकसित किया जा सकता है। बहुत कम उम्र में विकसित की गई स्वस्थ सूर्य स्क्रीनिंग आदतों से इन्हें रोका जा सकता है।

दवा के दुष्प्रभाव:


कुछ दवाएं विशिष्ट दुष्प्रभाव पैदा कर सकती हैं, जैसे कि त्वचा रंजकता और काले धब्बे। NSAIDs या गैर-स्टेरायडल विरोधी भड़काऊ दवाएं सबसे आम प्रतिक्रियाएं पैदा करती हैं।

सूजन:


त्वचा पर सूजन या त्वचा पर चोट लगने के बाद भी काले धब्बे पड़ सकते हैं। ये मुँहासे या एक्जिमा के कारण भी हो सकते हैं।

कुछ उत्पादों के कारण जलन:


कभी-कभी परफ्यूम या कुछ हेयर प्रोडक्ट जैसे कुछ उत्पादों के इस्तेमाल से त्वचा में जलन हो सकती है, जिससे त्वचा पर काले धब्बे दिखाई देने लगते हैं।

मधुमेह:


मधुमेह भी त्वचा के कुछ क्षेत्रों को अधिक मेलेनिन का उत्पादन करने का कारण बन सकता है, जिससे अंधेरे पैच हो सकते हैं।

जैसा कि आप देख सकते हैं, काले धब्बे विकसित करने के लिए अलग-अलग कारण हैं, जो हमें दो महत्वपूर्ण प्रश्नों के लिए लाते हैं। हमारी त्वचा से काले धब्बे कैसे हटाएं? और इससे भी महत्वपूर्ण बात यह है कि क्या हम डार्क स्पॉट्स को पहली बार दिखने से रोक सकते हैं? इससे पहले कि हम चर्चा करें, डार्क स्पॉट और मुँहासे के निशान के बीच अंतर करना महत्वपूर्ण है क्योंकि लोग उन दोनों के बीच भ्रमित होते हैं।

DARK स्पॉट वी.एस. मुँहासे के निशान


मुँहासे के निशान और काले धब्बे के बीच अंतर करना आवश्यक है क्योंकि दोनों के लिए उपचार बहुत अलग है। डार्क स्पॉट आमतौर पर सतही होते हैं और मुँहासे निशान के रूप में हानिकारक नहीं होते हैं। कभी-कभी, जिसे हम काले धब्बे मानते हैं और त्वचा की एक कॉस्मेटिक समस्या के रूप में खारिज कर देते हैं, वे गहरे मुँहासे के निशान बन सकते हैं।

पोस्ट-इन्फ्लेमेटरी हाइपरपिग्मेंटेशन हल्के या गहरे भूरे रंग के धब्बे होते हैं जो त्वचा पर हल्के या मध्यम मुंहासों से पीछे रह जाते हैं। वे अंततः समय के साथ त्वचा से मुरझाते हैं। मुँहासे के निशान आमतौर पर गहरे होते हैं और त्वचा की सतह के नीचे की परतों को नुकसान पहुंचाते हैं। ये आमतौर पर मध्यम से गंभीर मुँहासे के कारण होते हैं।

हम सभी ज़िटिंग को दोषी मानते हैं, और यह पता चलता है कि यह मुँहासे के निशान के लिए सबसे आम कारण है। मुँहासे निशान के कुछ प्रकार हैं:

बर्फ उठाओ निशान:


ये निशान गहरे हैं, लेकिन विस्तृत नहीं होने चाहिए। वे अपने दांतेदार किनारों से पहचाने जा सकते हैं और बड़े स्कूप-आउट पोर्स से मिलते-जुलते हैं।

बॉक्सर निशान:


ये परिभाषित किनारों के साथ त्वचा में व्यापक और आयताकार अवसाद हैं।

रोलिंग निशान:


ये ढलान वाले किनारों के साथ व्यापक अवसाद हैं, जैसा कि उनके नाम से पता चलता है।

निशान को उखाड़ फेंकने की आवश्यकता होती है, और जब वे पूरी तरह से निकालना मुश्किल होता है, तो वे समय के साथ फीका हो सकते हैं। लेकिन वे दिखाई देते हैं। शुक्र है, डार्क स्पॉट से छुटकारा पाना आसान है, लेकिन उन्हें पूरी तरह से गायब होने में दो महीने से लेकर 3 साल तक का समय लग सकता है।

DARK स्पॉट से छुटकारा पाने के लिए कैसे?


हम पहले से ही काले धब्बे और उनके कारणों का अर्थ समझ चुके हैं। अब हम इस लेख का सबसे महत्वपूर्ण हिस्सा बन गए हैं, जहां हम चर्चा करेंगे कि त्वचा से काले धब्बे कैसे हटाएं। काले धब्बों के इलाज के लिए विभिन्न घरेलू उपचारों को देखते हुए शुरुआत करें।

1. घर का उपयोग करने के लिए घर के बाहर चित्रण या शुक्राणुओं की संख्या


हल्दी


हर भारतीय घर में स्किनकेयर में हल्दी का उपयोग किया गया है। दो चम्मच हल्दी को दही और बेसन के साथ मिलाकर गाढ़ा पेस्ट बनाएं। इसे फेस पैक के रूप में त्वचा पर लगाएं और गुनगुने पानी से धो लें। सूखी ताली।

टमाटर का पेस्ट:


टमाटर का पेस्ट लाइकोपीन में समृद्ध है जो त्वचा को सूरज की क्षति से बचाता है। टमाटर के रस को 20 मिनट के लिए त्वचा पर लगाएं और फिर हल्के धब्बों और त्वचा के रंग को हल्का करने के लिए गुनगुने पानी से धो लें।

मंजिष्ठ:

मंजिष्ठा एक आयुर्वेदिक जड़ी बूटी है जिसके कई त्वचा लाभ हैं। यह एक रक्त शोधक है और त्वचा का भीतर से उपचार कर सकता है। इसमें एक मीठा, कड़वा और अम्लीय स्वाद है और यह एक प्रभावी पित्त शांत करनेवाला है। यह स्वस्थ और छोटी दिखने वाली त्वचा का समर्थन करता है। काले धब्बों के इलाज के लिए मंजिष्ठा कैप्सूल का सेवन रोजाना एक या दो बार किया जा सकता है। आप शहद के साथ मंजिष्ठा पाउडर भी मिला सकते हैं और इसे धोने से पहले 15-20 मिनट के लिए अपने चेहरे पर छोड़ दें और अपनी त्वचा को थपथपाएं।

मसूर दाल (लाल दाल):


मसूर दाल एक ऐसी चीज है जो हर भारतीय घर में आसानी से मिल जाती है। मसूर दाल का फेस मास्क एक लोकप्रिय डिप्रेशन का इलाज है। एक कटोरी पानी में 50 ग्राम लाल मसूर को रात भर भिगो दें। फिर एक ब्लेंडर का उपयोग करके, एक अच्छा पेस्ट बनाएं। 20 मिनट के लिए पेस्ट को अपने चेहरे पर लगाएं और इसे ठंडे पानी से धो लें।

हरी चाय निकालने:


अध्ययनों से पता चलता है कि त्वचा पर लगाने पर ग्रीन टी का अपचनीय प्रभाव पड़ सकता है। कुछ मिनटों के लिए उबले हुए पानी में एक ग्रीन टी बैग को रखें। इसे निकालें और इसे अपनी त्वचा के गहरे पैच पर रगड़ें। ग्रीन टी बैग्स को अपनी आँखों के नीचे रखने से भी काले घेरे को दूर किया जा सकता है।

चंदन:


गाढ़ा पेस्ट बनाने के लिए 1 चम्मच चंदन पाउडर में एक चम्मच संतरे का रस और संतरे का रस मिलाएं। डार्क मास्क वाले क्षेत्रों पर ध्यान केंद्रित करते हुए इसे फेस मास्क के रूप में लगाएं। गुनगुने पानी के साथ इसे बंद करने से पहले इसे 20 मिनट के लिए छोड़ दें। इसे सप्ताह में दो या तीन बार दोहराएं।

केसर:


केसर रंजकता और काले धब्बे को कम करने के लिए एक उत्कृष्ट आयुर्वेदिक प्राकृतिक घटक है। केसर की कुछ किस्में थोड़ी मात्रा में पानी में भिगोएं और एक पेस्ट तैयार करने के लिए इसमें दो चम्मच हल्दी पाउडर मिलाएं। रंजकता और काले धब्बों को कम करने के लिए इस पेस्ट को अपने चेहरे पर लगाएं।


एप्पल साइडर सिरका:


एक कटोरी में पानी और सेब साइडर सिरका की समान मात्रा मिलाएं और इसे काले धब्बों और रंजकता के निशान पर लगाएं। गुनगुने पानी के साथ कुल्ला और अपने पसंदीदा सीरम और मॉइस्चराइज़र का उपयोग करें। यदि मिश्रण चुभता है, तो इसमें और पानी डालें।

एलोवेरा जेल:

आपकी सभी समस्याओं के लिए एलोवेरा एक चमत्कारिक घटक है। आपको बस इतना करना है कि आपके चेहरे पर काले धब्बे को हल्का करने के लिए एलोवेरा जूस या जेल को सीधे काले धब्बों पर लगाएं और इसे धोने से पहले 30 मिनट के लिए छोड़ दें। आप इसे रात भर अपने चेहरे पर भी छोड़ सकते हैं। गुनगुने पानी से कुल्ला और बाद में एक टोनर और मॉइस्चराइजर लागू करें।

दैनिक स्पॉर्ट्स के लिए उपयोग करें:


कुछ समय के लिए नाइट क्रीम का उपयोग करने से काले धब्बे की उपस्थिति कम हो सकती है और यहां तक ​​कि मौजूदा काले धब्बे भी मिट सकते हैं। जैसा कि हम रात के दौरान सोते हैं, हमारी त्वचा कायाकल्प और मरम्मत में व्यस्त है। मुझे पता है कि एक लंबे, थकाऊ दिन के बाद सोने के लिए गिरने का विरोध करना कठिन हो सकता है, लेकिन रात क्रीम लगाने में कुछ अतिरिक्त मिनट खर्च करना आपकी त्वचा के लिए चमत्कार कर सकता है। कामा आयुर्वेद कायाकल्प और ब्राइटनिंग नाइट क्रीम आपकी त्वचा से काले धब्बे हटाने के लिए प्रभावी रूप से काम करता है। यह केसर में समृद्ध है, जो असमान त्वचा को हल्का और उज्ज्वल करता है, ठीक लाइनों, उम्र के धब्बे, और उम्र बढ़ने के अन्य लक्षणों की मरम्मत करते हुए काले घेरे और रंजकता के निशान को कम करता है।

विकास स्वास्थ्य कौशल के विकास


किसी भी अन्य समस्या के साथ, यहां तक ​​कि काले धब्बे के साथ, यह हमेशा खेद से सुरक्षित रहने के लिए बेहतर है। यहाँ त्वचा पर काले धब्बे की उपस्थिति को रोकने के लिए कुछ सुझाव दिए गए हैं:

हर समय सनस्क्रीन का प्रयोग करें। अच्छी सन स्क्रीनिंग की आदतें काले धब्बे और रंजकता की उपस्थिति को रोक सकती हैं। कम से कम 20 एसपीएफ वाले सनस्क्रीन पहनना सुनिश्चित करें। हर 2 से 3 घंटे में सनस्क्रीन लगाएं।
स्वस्थ खाना! एक संतुलित आहार और एक स्वस्थ जीवन शैली स्वस्थ त्वचा को बढ़ावा दे सकती है और काले धब्बे और अन्य त्वचा स्थितियों की उपस्थिति को रोक सकती है। विटामिन और मिनरल्स से भरपूर फल और सब्जियां खाएं।
अपने आहार में कमियों के विकल्प के लिए पोषण की खुराक लेना एक उत्कृष्ट तरीका हो सकता है। विटामिन सी की खुराक और अन्य एंटीऑक्सिडेंट काउंटर पर खरीदे जा सकते हैं।
धूम्रपान छोड़ने। अध्ययन में पाया गया है कि सिगरेट पीने से त्वचा पर टूटने का सीधा संबंध हो सकता है।
अपनी त्वचा को धूप से होने वाले नुकसान से बचाने के लिए धूप के नीचे चौड़ी-चौड़ी टोपी और धूप का चश्मा पहनें।

4. पूरी तरह से प्राकृतिक आयुवृत्तों का उपयोग करें


जैसा कि हमने पहले चर्चा की, बाहरी कारणों (सूरज के संपर्क में) के साथ-साथ आंतरिक कारणों (हार्मोनल असंतुलन) के कारण काले धब्बे हो सकते हैं। गहरे धब्बों का इलाज करना कठिन होता है जो आंतरिक रूप से सिर्फ क्रीम या तेल लगाने के कारण होता है। इस तरह के काले धब्बों का इलाज करने के लिए, पहचानें कि कौन सा दोष (वात या पित्त) असंतुलन में है। फिर, दोशा को संतुलित करने के लिए एक उचित आहार का पालन किया जाना चाहिए। बहुत सारे पानी, फल, फलियां, अंडे, लहसुन और प्याज पिएं क्योंकि ये खाद्य पदार्थ काले धब्बों को रोकने में मदद करते हैं।

पारंपरिक आयुर्वेदिक तत्व भी हैं जो गहरे धब्बों के इलाज के लिए जड़ी-बूटियों और तेलों की ऊर्जा का उपयोग करते हैं। नीचे कुछ आयुर्वेदिक उपचार दिए गए हैं जिनका आप नियमित रूप से उपयोग कर सकते हैं यदि आप काले धब्बे से पीड़ित हैं।

कुमकुमादि तैलम – पौराणिक कुमकुमादि तेल सुस्त, रंजित, क्षतिग्रस्त और उम्र बढ़ने वाली त्वचा के लिए निर्धारित है। यदि आपकी चिंता यह है कि आपके चेहरे से काले धब्बे कैसे हटाए जाएं, तो यह आयुर्वेदिक उपचार आपके लिए एकदम सही है। प्रमुख घटक, केसर, रंग को रोशन करने और रंजकता को ठीक करने में मदद करता है। कामा की कुमकुमडी चमत्कारी सौंदर्य द्रव रात सीरम चेहरे के लिए एक ऐसा तेल है।


क्लींजिंग के बाद अपनी त्वचा को प्योर रोज वॉटर से पोछें। अपनी हथेली पर कुमकुमादि तेल की 3-4 बूँदें लें, उँगलियों से चेहरे पर लगाएँ और पूरी तरह से सोखने तक त्वचा पर धीरे-धीरे मालिश करें। सर्वोत्तम परिणामों के लिए इसे रात भर काम करने दें। केवल रात के उपयोग के लिए और दिन के समय लागू नहीं किया जाना चाहिए।

नलपामारडी थिलम – एक शक्तिशाली त्वचा को चमकाने और डी-टेनिंग उपचार के लिए, यह तिल के तेल, वैटाइवर, हल्दी, आंवले और भारतीय मैडर का मिश्रण है। तेल में मौजूद शक्तिशाली हल्दी में एंटीऑक्सीडेंट गुण होते हैं जो रंजकता, असमान त्वचा की टोन और निशान को ठीक करते हैं।


काले धब्बे और रंजकता के लिए तेल का उपयोग करने के लिए, धीरे से त्वचा में मालिश करें, यह सुनिश्चित करें कि प्रभावित शरीर के अंग कवर किए गए हैं। उपचार 30 मिनट के लिए छोड़ दिया जाए तो सबसे अच्छा काम करता है। एक हल्के क्लीन्ज़र के साथ उपचार के बाद शुद्ध करें। हल्दी जैसे अवयवों के कारण यह तेल पीला पड़ सकता है; इसलिए इसका उपयोग करते समय उपयुक्त सावधानी बरतनी चाहिए।

ज्वालिनी तेल – प्राचीन ग्रंथों में स्पष्ट त्वचा के लिए आदर्श उपचार के रूप में वर्णित है, इसमें ऐसी जड़ी-बूटियाँ हैं जो शुद्ध नारियल के दूध और तिल के तेल में संसाधित होती हैं। यह एक उत्कृष्ट सूरज के बाद का उपाय है जो तन और हाइपरपिग्मेंटेशन का इलाज करता है। आप इसे अपने पूरे शरीर पर लगा सकते हैं। यह सभी प्रकार की त्वचा के लिए उपयुक्त है, लेकिन मुँहासे से पीड़ित त्वचा के लिए आदर्श नहीं है।


सर्वोत्तम परिणाम प्राप्त करने के लिए, हथेलियों पर एक उचित मात्रा लें और अच्छी तरह से अवशोषित होने तक त्वचा में धीरे से मालिश करें। 30 मिनट के लिए छोड़ दें और हल्के क्लीन्ज़र से धो लें।

 

अन्य पंजीकरण उपचार:


हमने ज्यादातर प्राकृतिक उपचार और सौंदर्य आदतों के बारे में बात की है ताकि रंजकता और काले धब्बे से छुटकारा पा सकें। हम अत्यधिक अनुशंसा करते हैं कि आप अपने काले धब्बों से छुटकारा पाने के लिए उनका अनुसरण करें।

साथ ही अन्य उपचार भी हैं, जिनमें रसायनों का उपयोग शामिल है। हम इन उपचारों की अनुशंसा नहीं करते हैं क्योंकि वे सभी प्रकार की त्वचा के लिए उपयुक्त नहीं हैं और इसके दुष्प्रभाव हो सकते हैं। हालाँकि, आपको इस विषय पर पूरी जानकारी प्रदान करने के लिए, हम इनमें से कुछ रासायनिक उपचारों को सूचीबद्ध कर रहे हैं। किसी भी त्वचा के साथ आगे बढ़ने से पहले एक त्वचा विशेषज्ञ से परामर्श करना और पेशेवर सलाह लेना याद रखें।

चेहरा एसिड:


फेस एसिड आपकी त्वचा की ऊपरी परत को एक्सफोलिएट और बहा कर काम करते हैं ताकि नई कोशिकाएं उभरें और पुरानी कोशिकाओं का स्थान लें। यह प्रक्रिया त्वचा को बाहर निकालती है और इसे चिकना बनाती है। बाजार में विभिन्न एसिड उपलब्ध हैं, लेकिन सबसे आम हैं विटामिन सी और सैलिसिलिक एसिड।


रासायनिक छीलन:


रासायनिक छिलके त्वचा की बाहरी परत को छीलने के लिए तेज एकाग्रता में एसिड का उपयोग करते हैं। डार्क स्पॉट्स का इलाज करने के लिए रासायनिक छिलकों के साथ आगे बढ़ने से पहले त्वचा विशेषज्ञ से परामर्श करना उचित है।

लेजर छील:


लेजर छील उपचार हाइपरपिगमेंटेशन और काले धब्बों के इलाज के लिए प्रकाश के लक्षित बीम का उपयोग करता है। विभिन्न प्रकार के लेजर छिलके हैं। आपका डॉक्टर या त्वचा देखभाल विशेषज्ञ आपकी त्वचा का आकलन करेगा और उपचार का सबसे अच्छा तरीका सुझाएगा।

तीव्र नाड़ी प्रकाश चिकित्सा:


आईपीएल थेरेपी एक प्रकार का नॉन-एब्लेटिव लेजर ट्रीटमेंट है जिसे फोटो फेशियल के नाम से भी जाना जाता है। आईपीएल थेरेपी के लिए आमतौर पर कई सत्रों की आवश्यकता होती है। यह त्वचा के भीतर कोलेजन उत्पादन को बढ़ावा देता है।

Microdermabrasion:


माइक्रोडर्माब्रेशन एक नैदानिक ​​प्रक्रिया है जिसका उपयोग हाइपरपिगमेंटेशन के इलाज के लिए किया जाता है जो केवल एपिडर्मिस (सतही स्कारिंग) को प्रभावित करता है। यह सतही निशान पर सबसे अच्छा काम करता है।

बार-बार पूछे जाने वाले सवाल डार्क्स स्पोट्स के बारे में पूछे गए सवाल


1. रात भर चेहरे पर काले धब्बे कैसे हटाएं?

जबकि हम सभी अपनी त्वचा की समस्याओं का त्वरित समाधान चाहते हैं, लेकिन रात भर चेहरे से काले धब्बे हटाना पूरी तरह से संभव नहीं है। हालांकि, कुछ चीजें हैं जो आप उन्हें जल्दी से छुटकारा पाने के लिए कर सकते हैं।

इस प्राकृतिक उपाय को आजमाएं – आलू का रस निकाल लें और हर रोज अपनी त्वचा में मालिश करें।
अपने डार्क स्पॉट्स के इलाज के लिए नाइट क्रीम या नाइट सीरम का इस्तेमाल करें। सर्वोत्तम परिणामों के लिए इसे रात भर काम करने दें।


2. पिंपल्स के कारण होने वाले काले धब्बों को कैसे दूर करें?

जैसा कि हमने पहले लेख में चर्चा की थी, मुँहासे या फुंसी के कारण होने वाले धब्बे मुँहासे निशान कहलाते हैं। काले धब्बों के विपरीत, वे रंजकता के कारण नहीं होते हैं और निकालना मुश्किल होता है। आयुर्वेद में, लाल चंदन को मुँहासे निशान को हल्का करने के लिए एक उपयोगी घटक माना जाता है। आप पिंपल्स के कारण होने वाले काले धब्बों को हल्का करने के लिए रेड सैंडलवुड के साथ एंटी-एक्ने फेस पैक का उपयोग कर सकते हैं।

3. तेजी से चेहरे पर काले धब्बे कैसे हटाएं?

चेहरे से काले धब्बे हटाना एक धीमी प्रक्रिया है। जबकि कुछ रासायनिक उपचार आपको तेजी से चेहरे पर काले धब्बे हटाने में मदद कर सकते हैं, उनके दुष्प्रभाव हो सकते हैं।

हम अनुशंसा करते हैं कि आप सन-स्क्रीनिंग की आदतों को विकसित करके शुरू करें और नाइट क्रीम या नाइट सीरम लगाएं जो काले धब्बों को दूर करने में मदद करता है। कभी-कभी, प्रक्रिया को और तेज करने के लिए नींबू के रस या आलू के रस जैसे प्राकृतिक अवयवों के साथ अपने चेहरे का इलाज करें। हमने पहले ही लेख में प्राकृतिक उपचारों की एक सूची साझा की है।

4. डार्क स्पॉट्स के लिए चेहरे पर नींबू का इस्तेमाल कैसे करें?

नींबू सबसे आम प्राकृतिक घटक है जिसका उपयोग काले धब्बों के इलाज के लिए किया जाता है क्योंकि यह विटामिन सी से भरपूर होता है। काले धब्बों के लिए अपने चेहरे पर नींबू का उपयोग करना आसान है। बस एक कटोरी में नींबू निचोड़ें और पानी के बराबर भागों को जोड़ें। नींबू के रस को बिना पतला किए त्वचा पर लगाने से जलन हो सकती है। अपने चेहरे और हाथों पर काले धब्बे वाले क्षेत्रों पर सीधे मिश्रण को लागू करने के लिए एक कपास की गेंद का उपयोग करें। यदि आपके चेहरे पर कोई खरोंच, कट या सूखी त्वचा के पैच हैं, तो सुनिश्चित करें कि आप अपनी त्वचा पर नींबू लगाने के दौरान उनसे बचें।

निष्कर्ष


ज्यादातर मामलों में, कॉस्मेटिक कारणों को छोड़कर, त्वचा पर काले धब्बे चिंता का कारण नहीं हैं। हालांकि, डॉक्टर को यह देखने की सलाह दी जाती है कि क्या त्वचा पर कोई भी गहरा पैच या तो खुजली, खुरदरापन, झुनझुनी, या रंग या आकार में परिवर्तन के रूप में दिखाई देता है क्योंकि ये त्वचा कैंसर के संकेतक हो सकते हैं। यह समझना भी महत्वपूर्ण है कि ऊपर वर्णित सभी समाधान सभी के अनुरूप नहीं हो सकते हैं। चेहरे पर कुछ भी लगाने से पहले पहले पैच टेस्ट करना उचित है। घरेलू उपचार और स्वस्थ स्किनकेयर की आदतें सभी के लिए हैं, लेकिन रासायनिक छिलके और अन्य हाइपरपिगमेंटेशन उपचारों को आज़माने से पहले डॉक्टर से परामर्श करना याद रखें।

जेनेटिक और माइक्रोबायोम परीक्षण के लिए बी 2 सी प्लेटफॉर्म बेंगलुरू स्थित स्टार्टअप फर्म बीओएन वेंचर्स प्राइवेट लिमिटेड ने सीओवीआईडी -19 के लिए एक तेजी से घर पर स्क्रीनिंग किट लॉन्च किया है जो मिनटों के भीतर परिणाम देता है। कंपनी ने कहा कि वह उत्पाद उपलब्ध कराएगी …

“हम अमेरिका में अपने एक साथी से इस स्क्रीनिंग किट का आयात कर रहे हैं, जिसने उत्पाद के लिए यूएसएफडीए की मंजूरी हासिल कर ली है। भारत में, हमने इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च (आईसीएमआर) से प्रमाणन प्राप्त कर लिया है। स्क्रीनिंग किट आपको राहत प्रदान कर सकती है। ..

लॉकडाउन के मद्देनजर बाहर निकलने के लिए बिना सरल बिंदु के होम-केयर होम स्क्रीनिंग किट त्वरित परिणाम प्रदान करती है। यह अलगाव के द्वारा उपयोगकर्ता के निकटता में दूसरों के लिए एक निवारक उपकरण के रूप में कार्य करते हुए रोग का समय पर पता लगाने को बढ़ावा देगा …

उन्होंने कहा कि वैश्विक आपूर्ति के आधार पर किट की कीमत 2,000 रुपये से 3,000 रुपये के बीच होने की संभावना है, जनता के लिए इसकी सामर्थ्य बढ़ाने के लिए, उन्होंने कहा।

COVID-19 स्क्रीनिंग टेस्ट किट एक IgG & IgM- आधारित टूल है, जिसके परिणाम देने में 5-10 मिनट लगते हैं। किट प्राप्त करने पर, उपयोगकर्ता को एक alcohol swab के साथ उंगली को साफ करने और उंगली से चुभने के लिए प्रदान की गई लैंसेट का उपयोग करना आवश्यक है।

Bione की स्थापना 2019 में बेंगलुरु में डॉ सुरेंद्र के चिकारा द्वारा की गई थी, जो भारत में NGS अनुक्रमण लाने में अग्रणी थे।

उन्होंने कहा कि कंपनी प्रति सप्ताह 20,000 किट की आपूर्ति करने के लिए अच्छी तरह से सुसज्जित है और मांग को पूरा करने के लिए आने वाले महीनों में अपनी विनिर्माण सुविधाओं का निर्माण करने का इरादा रखती है।

Table of Contents

What is Cord Blood and how it is stored?

When a baby is born, there is some blood stored in the placenta and umbilical cord of the child. This blood is called Cord Blood and it is collected to preserve for future use because it has stem cells. Stem cells are very efficient in treating hematopoietic and genetic disorders. These stem cells are the same as those cells which help in the development of baby’s organs, immune system, tissues etc while the baby is in mother’s womb. After the childbirth, the umbilical cord is cut and the cord blood is collected.

  • The collection of the Cord Blood is a very safe process for both the mother and the baby.
  • If parents want their babies Cord Blood to be saved then they ask the doctor to do so.
  • Your treating doctor will attach the umbilical cord in two different places with 10 inches of space in between.
  • Then, with the help of a syringe, the doctor will be able to collect approximately 40 milliliters of Cord Blood.
  • The collected blood is put in a sealed bag to send it to the cord blood bank for testing and preservation.

What are the uses and benefits of Cord Blood?

Cord blood is quite helpful in serving a lot of purposes. The stem cells present in it are very efficient in treating the following diseases:

  • Cord blood is useful in treating patients suffering from different types of cancerous bacteria. Patients with blood cancer, lymphomas, leukemia can find treatment for their disease in their own cord blood tissue or if they get a matching stem cells from a related or an unrelated donor.
  • Immune system disorders like sickle cell disease and Wiskott – Aldrich syndrome can also be treated via cord blood tissues.
  • From 30 years, cord blood is being used in transplant medicine curing 80 different diseases. Now its use has extended and clinical research trials have been conducted to find cure for autism and cerebral palsy in cord blood tissues.
  • Recent studies have shown that cord blood can also be used for treating Bone Marrow Failure Syndromes and Metabolic Disorders.
  • Yet another medical use of cord blood is in treating various forms of Anemia. Cord blood transplant can help a great deal in increasing the count of Red Blood Cells (RBCs)/hemoglobin in one’s body.

What is Cord Blood Banking ?

The term ‘Cord Blood Banking’ refers to the utilization of the blood stored in the baby’s umbilical cord. Earlier this blood was not stored and rather it was thrown away. But now, the concept of ‘Cord Blood Banking’ is taking precedence where parents can ask their doctor to keep the Cord Blood of their new born to use the stem cells in it in near future. Parents wanting to store their baby’s cord blood are required to use a cord blood bank which is fully accredited by the American Association of Blood Banks (AABB) such as Viacord.

Cord blood is extremely rich in stem cells that can cure a lot of health disorders. Parents have the choice of storing the cord blood tissues for their own baby or for any family member or they can also choose to donate their child’s cord blood to an unrelated person. There are two types of ‘Cord Blood Banking’ techniques:

  • Allogeneic mode of treatment: In this case, stem cells are received from an unrelated donor.
  • Autologous mode of treatment: In this case, the patient is treated with the help of their own stem cells.

Cost of Cord Blood Banking Information

Public Cord Blood Banking Free of cost
Private Cord Blood Banking $1400 to $2300
Family Cord Blood Banking $90 to $175 (Excluding processing fee)

The cost of Cord Blood Banking varies from public to private cord blood banking. This is shown below:

  • If you’re going for Public Cord Blood Banking, then it is an absolutely free of cost process right from collecting, testing, processing and storing of baby’s cord blood.
  • If you’re going for Private Cord Blood Banking facility, then for collecting, testing and registry of cord blood banking will cost you $1400to$2300. For per year storage, the cost ranges from $95 to $125.
  • Some family cord blood banks charge $1,000 – $3,000 as 1st year processing fee. Blood storing costs ranges from $90 to $175.
  • Various banks have payment plans where parents can choose from a no – interest plan to a long term financing plan with applicable interest rates.

What is Public and Private Cord Blood Banking?

Cord blood can be collected and stored in either public or private blood banks. If you wish to keep or donate your baby’s cord blood, you can talk to your doctor about it just 3 months before you are expected to deliver i.e. between 28th – 34th weeks of pregnancy, the decision should be made in order to avoid last minute hassle.

Public Vs Private Cord Blood Banking

  1. Public Cord Blood Banking involves storing of cord blood for allogenic stem cell transplants. Anyone who founds a matching donor can be treated with cord blood stored in public banks. Few public cord blood banking centers store umbilical cord blood for directed donation which means that if any family member, who has some cancerous disease or immunity related disorder, then they can be treated with their related cord blood donor. A mother donating cord blood to a public bank will be tested and screened first to rule out any genetic disorder or infections. The blood is then ‘typed’ if it is found fit for using.
  1. Private Cord Blood Banking serves the purpose of autologous stem cell transplants. Private cord blood banks reserve the cord blood only for directed donation i.e. for a family member. Thus, it basically means that a family chooses their own family line’s cord blood to get stem cells.
  1. Public cord blood banks hardly charge anything for the storage and maintenance of baby’s cord blood while private banks do keep and annual fee for storage of cord blood.
  1. At a public bank, the whole community can access cord blood but at a private bank, only the members of the family can have access to it.
  1. A private cord blood bank might throw away the infant’s umbilical cord blood if the family says that they do not require it but a public cord blood bank will always keep it for donating.

Can Grandparents and Siblings share Cord Blood?

Yes off course, Cord Blood has such powerful stem cells as can be used for treating any ailing sibling, grandparents or great grandparents or even parents of the child. First and second degree relatives of the kid can use those stem cells and any other relative requires going through screening first in order to confirm to be a perfect match.

  1. Siblings will have a greater potential for cord blood genetic match but still only a perfect 100% match is considered for stem cell transplant.
  2. Half siblings will have less like ability to be a perfect match; whole siblings stand a greater chance.
  3. If a sibling is suffering from any of these diseases, then they can get stem cells from their brother/sister cord blood cells – leukemias, cystic fibrosis, lymphoma, immune system disorders, phagocyte disorders, anemia, bone marrow cancer, hearing loss etc.
  4. Whether or not Grandparents will find a perfect match will depend upon the way genes are passed.

Is Cord Blood Banking worth it?

Like everything else, cord blood banking also have its own set of pros and cons. These are listed below:

Pros of Cord Blood Banking

  1. Cord blood is life saving: The umbilical cord blood tissues are a rich source of stem cells, so they are used for treating patients suffering from certain types of blood cancers, immunity related disorders, anemia. Cord blood has higher chances of matching with the patients who need it rather than the bone marrow blood cells. Scientists are studying and researching for more ways to treat some brain disorders. Clinical trials for autism are in progress at the Sutter Neuroscience Institute in Sacramento, California.
  2. History of successful cord blood transplants: Therapies done using cord blood transplants have proved to be very successful. Joanne Kurtzberg, the director of the pediatric bone marrow and stem cell transplant program at Duke University says, that in the last 10 years, doctors and researchers have studied a lot about dosing cord blood, how to pick up a matching donor and how to give care and support to patients undergoing stem cell transplants. These studies have made recent cord blood transplants way more successful.
  3. Cord blood is easily accessible: Patient’s own cord blood is always accessible if it is stored with a registered public or private cord blood bank. One’s cord blood bank is reserved for family, siblings or any relative suffering from certain kind of disease which is curable via cord blood. You can always go and ask for your cord blood tissues in times of need or you can also choose to donate it to someone who needs it more than you.

Cons of Cord Blood Banking

  1. Cord blood banking is expensive: The cord blood banking cost is very high, especially in private blood banks. Not everyone can afford to pay for it as it goes around $2,300 plus the storage cost per year has to be paid. So, the total cost of it becomes an expensive affair.
  2. Cord blood is disposed in most cases: If your Cord Blood Bank is in a public cord blood bank, then might be considered safe as it can be used to treat a sick child and can prove to be life giver but if we talk about a private cord blood bank, then they might throw it away if the family does no need any longer.
  3. Some diseases remain untreated: Joanne Kurtzberg is of the opinion that cord blood cells can only be used if the child is healthy. In case the child has some genetic disorder, then the cord blood tissues might be of no use to the patient.
  4. No use of cord blood in most cases: The founder and director of Parent’s Guide to Cord Blood Foundation have found out that there are only 1 in 217 chances that a child will need their stem cells. A child whose family has a history of cancerous diseases or some anemic disorders will require a stem cell transplant.

Top 10 Cord Blood Banking Centers Information in the USA

The finest 10 centers in the United States known for providing the best Cord Blood Banking facilities are mentioned below:

Sr No Company Name Location
1 Cryo – Cell Oldsmar, Florida
2 Viacord Cambridge, Massachusetts
3 Cord Blood Registry San Bruno, California
4 LifebankUSA Cedar Knolls, New Jersey
5 Family Cord Los Angeles
6 Carolinas Cord Blood Bank Duke University
7 StemCyte Live Oak Avenue, Balwin Park
8 P. McCarthy Cord Stem Cell Bank Detroit
9 Gencure Texas
10 MD Anderson Cord Blood Bank Houston

Cancer is a dreaded term which can drain the affected person both mentally and physically. But, a lot depends upon what kind of character the person shows, if a person diagnosed with cancer maintains a positive attitude, then that positivity is definitely going to make them win the struggle against this deadly disease. In today’s day and age, cancer is spreading like an epidemic because of the irregular lifestyle patterns we leading and celebrities are also not out of this list. Many public figures have been diagnosed by different forms of cancer, some got a new lease of life and some lost their battle to cancer.

Celebrities who survived cancer

Just like Cancer has hit common people, the same way, it has affected the health of many big stars in Hollywood. The Indian celebrities who had been diagnosed with cancer in the past usually chose to head to the United States of America (USA) to start off their treatment.

Along with chemotherapy, surgery and healthy eating habits, all these cancer survivors are said to have gained positivity through yoga sessions and motivational speeches conducted by the cancer centers they got treated at.

Below are some of the famous cancer survivors who put a great fight against this fatal disease and embraced life like never before:

  • Yuvraj Singh: The Indian cricketer was diagnosed with a non – malignant tumor above his heart’s artery. His cancer was in an early stage and was treated using chemotherapy at the Cancer Research Institute, Boston, USA.
  • Lisa Ray: In 2009, the actress suffered from a very rare type of cancer called multiple myeloma (a cancer caused in the white blood cells). Lisa was declared cancer free after a stem cell transplant. Born and brought up in Canada, she sought treatment in the US itself.
  • Robert De Niro: The American actor and filmmaker was diagnosed with prostate cancer in the year 2003. His cancer was detected in the early stage after which De Niro underwent surgery in December 2013 at the Memorial Sloan – Kettering Cancer Center.
  • Lance Armstrong: Testicular cancer survivor, Armstrong bounced back to his road racing cycling career in 1998 after being tested positive for cancer in 1996. The cyclist was treated for cancer at the Indiana University Health University Hospital, Indiana, USA.
  • HughJackman: The Australian actor – singer suffered from basal cell carcinoma (skin cancer) and he first got treated in the year 2013. After that, the cancerous growth has been recurring and Jackman has got six cancer removal surgeries done till 2017 and the actor is well now.
  • Jane Fonda: The American actress who has many feathers in her cap, was diagnosed with breast cancer for which she was underwent lumpectomy in 2010 and was healing all these years but in early 2018 she was spotted with bandages on her face. For that, she revealed that she got a cancerous growth removed from her lip.
  • Giuliana Rancic: The Italian – American TV actress was diagnosed with breast cancer in the year 2011. She got double mastectomy and reconstructive surgery done in the same year. Later on, this cancer survivor founded a charity called ‘Fab – U – Wish’ to support other women battling breast cancer.
  • Stephen Fry: The English actor – comedian released a video in February 2018 announcing his diagnosis and treatment of prostate cancer. 11 adjacent lymph nodes and the infected cancerous organ were removed from Fry’s body to cure the aggressive form of cancer that he had. The actor is of the opinion that an early detection of the disease made him a cancer survivor.

Likewise, there are many celebrities in Hollywood and Bollywood who are known to have detected this deadly yet curable disease. All of them fought their respective battles with cancer, some emerged out victorious, but famous public figures like Vinod Khanna, Rajesh Khanna, Nargis Dutt, Mumtaz, Tom Alter, Paul Newman, Anne Bancroft etc lost their lives.

Most Common Types of Cancer

There are various rare and more frequent types of cancer that are known in this date and age. Some of them are given below:

  • Breast Cancer
  • Terminal Lung Cancer
  • Prostate Cancer
  • Colon Cancer
  • Lymphoma
  • Leukemia
  • Basal Cell Cancer
  • Skin Cancer
  • Testicular Cancer
  • Melanoma

Types of Cancer Treatments

The treatment of any type of cancer depends upon what the stage and type of cancer it is. A medical procedure is followed accordingly. The most common types of treatments that are resorted to cure cancer patients are given as follows:

Chemotherapy through Drip System and Tablets:

In the United States, there are advanced treatments available for every type of cancer. Cancer patients are treated with either of the two types of chemotherapeutic surgeries available. One is, injecting the medicine(s) through the drip which takes about 7 to 8 hours and second one is through oral medication i.e. through consuming chemo tablets.

Radiation Therapy or Radiotherapy

Radiotherapy is also a very crucial part of the cancer treatment. Sometimes due to chemotherapy, few cells become so active that they can harm the patient so in order to kill them, RT is done. Also, before the treatment for cancer starts, the doctors usually check as to which therapy out of chemo or RT is required to be conducted. This solely depends upon the intensity and growth of the malignant cells.

Blood Transfusion and PDT Therapy

These techniques and procedures are more prominently used by patients seeking treatment in the US. For example, Blood Transfusion is resorted to if a person is suffering from blood cancer. Similarly, procedures such as stem cell transplant, photodynamic therapy (PDT), Laser Therapy, Hyperthermia etc are used for treating cancer patients.

Yoga Sessions and Motivational Lectures to generate positivity:

Apart from these medicated treatments, celebrities are also encouraged to attend yoga sessions and motivational lectures in order to divert their mind from their illness.

  • Celebrities seeking treatment for cancer are given positive and motivating speeches about life and are also advised to meditate.
  • Most of these motivating lectures are usually given by the celebrity cancer survivors only so that their story inspires the one who is currently battling with the disease. Popular motivational speakers are Jim Kelly, Diana Jordan, Alan Hobson, Jennifer Griffin, Scott Hamilton and many others.
  • Yoga also helps a great deal in curing the disease and especially for the breast cancer patients, it works wonders. A recent study conducted at The University of Texas MD Anderson Cancer Center, USA shows that regular yoga sessions help to relieve stress and fatigue.
  • The American Cancer Society strongly recommends to all the cancer survivors to do minimum 150 minutes of exercise every week, including yoga and strength training.

Cost of Cancer Treatment of Celebrities

There cannot be any viable figures for cancer treatments because the cost of one’s treatment for cancer shall depend on the type of cancer and the number of chemo rounds to be conducted. However, it can be rightfully said that the treatment of this disease is much better and advanced in the US. This is more so because the United States itself is an advanced nation in terms of health and hygiene.

The total cost ranges from thousands to lakhs if we talk about cancer treatments in India whereas cancer treatments in the USA would cost the patient in crores.

Let us have a more detailed look on the approximate cost depending upon the type of treatment in India and the USA:

Average Cost of Cancer Treatment in India and USA
Therapy/Surgery Cost (in INR) Cost (in US$)
Chemotherapy (1 Round) Rs. 10 to 15 Thousands $2000 – $3000
Radiation Therapy Approx. 4 Lakhs $4000 – $7000
Breast Cancer Surgery (Single/Double Mastectomy) Approx. 5 Lakhs $7000
Surgery for Prostate Cancer Approx. 7 Lakhs $10,000
PET – CT Scan Approx. Rs 10000 $5000 and above

So clearly, getting treated in the States is a costly affair but one cannot ignore the fact that the patient survives in most cases. We can find a large number of celebrity survivors in the USA and above everything else, what matters is the courage and positivity above anything else to become cancer free.