Clomid Pregnancy Symptoms Calculator

Clomid Pregnancy Calculator
  1. What is Clomid?
  2. How Clomid Works?
  3. How Long Does It Take to Get Pregnant on Clomid?
  4. Early Signs of Pregnancy Following Clomid
  5. Risks of Taking Clomid When You Already Ovulate
  6. Taking Clomid Without a Period
  7. Clomid Cramps After Ovulation
  8. What Happens When You Stop Taking Clomid ?
  9. Best Days to Take Clomid for Success
  10. What is Clomid?

    Clomid is a nonsteroidal fertility medication. When we use this medication, the hormones required to stimulate ovulation (releasing an egg from your ovary) are discharged by the pituitary gland. Clomid, a nonsteroidal estrogen, has a more extended interaction with the binding proteins of the estrogen receptor. Clomid behaves similarly to an antiestrogen. It is thought that this hormone regulates and controls the release of regulatory hormones from the hypothalamus, which in turn allows for normal follicle formation and ovulation.

    Clomid is commonly used for irregular periods and polycystic-ovarian syndrome (PCOS), in women who wish to become pregnant. Women with liver disease or ovarian cysts should not take Clomid unless they are advised by their doctor. Clomid should not be considered a miracle cure for all women who desire to become pregnant. Clomid may be used when there is no other option, such as in cases of undiagnosed infertility.

    How Clomid Works?

    It is essential to understand the basics of regular ovulation to know how and why clomiphene works. Usually, one egg is produced by a woman’s ovary every 24 to 35 calendar days. Ovulation occurs 12-14 days before the next period. The best time for a woman to become pregnant is between the day of ovulation and one to two days before ovulation. This would be 12-14 days after the 28-day menstrual period. Day 1 is the day that you start bleeding.

    Polycystic Ovary Syndrome (PCOS) is a condition that makes women more likely to respond to clomiphene. Women with low estrogen levels or absence of periods (called “hypothalamic amenorrhea”) or high levels of follicle-stimulating hormone (FSH), which are indicators of ovarian age (early menstruation or primary ovarian insufficiency), are less likely to respond to clomiphene.

    Day 1 of Cycle: It’s Your Periods

    Your doctor might tell you that the official day of your period is the day after it began. It all depends on when your period started. Clomid will be required to be taken on specific days during your cycle. Some tests may be required on certain days. Call your doctor if you have only spotting. You may never experience full flow. To determine where you are in your cycle, your doctor can look at your bloodwork. Your doctor may perform a “random starting” if you have irregular periods or don’t get one. Your blood work will be checked to determine if you are a baseline for Clomid start.

    If you have irregular periods, your doctor might prescribe Provera (medroxyprogesterone), a form of progesterone. This medication will cause a period. Your doctor may ask you to have a beta pregnancy test done via blood work to ensure that you are not pregnant.

    Cycle Days 2-3: Baseline Ultrasound

    A baseline ultrasound check may be requested by your doctor if you call your doctor on day one of your cycle. A fertility specialist is more likely to perform this. Transvaginally, the ultrasound appointment takes less than a minute. Transvaginal ultrasounds are performed using an ultrasound probe that is inserted through your vagina.

    Cysts on the ovaries are what your doctor will be looking for. This is not the same as tiny cysts that can be seen with polycystic eggs. The doctor will look for a more giant cyst in this instance. The ultrasound usually doesn’t show anything. Your cycle can continue as planned if everything is fine. Your doctor may cancel your process if the ultrasound shows a cyst. To try again, you may have to wait until next month. Don’t be alarmed if they find a cyst. These cysts are not usually dangerous and will often disappear on their own. Unfortunately, you will need to wait for treatment to begin.

    Cycle Days 3-5: Clomid Start

    After you have been cleared by your doctor, your doctor will give you your first dose. For five days, you’ll only need to take one dose per day. However, Clomid will not be taken on the first day.

    You may be told by your doctor to take Clomid pills in one of these sequences:

    • The 3rd, 4th, 5th, 6th and 7th day of your cycle.
    • The 5th, 6th, 7th, 8th and 9th day of your cycle.

    Although this is less common, some doctors recommend that you begin treatment on either cycle day 2 or 4, but it is still possible. Clomid starting on day 3 or day 5 doesn’t seem like it will make a difference in pregnancy success rate.

    Your doctor might ask you to change your start day for your next cycle in some instances. This is to determine if it will make a difference. It is best to take Clomid every day at the same time. Some people believe that sleeping before bed can help with side effects. Some people do better taking the pill in the morning.

    Clomid can be taken at different times of the day if you are on another Clomid cycle. However, it is best to consult your doctor before changing the time of the day.

    Clomid begins to work on Cycle Days 3-9

    Clomid won’t cause you to ovulate for five days. Clomid starts a chain reaction which eventually leads to ovulation with the first dose. The hormone FSH produced will signal ovaries to reproduce and mature the eggs, then be released during ovulation. As they grow, estrogen is released by the follicles. A decrease in estrogen signals that FSH production has slowed down. This causes the stimulation of the ovaries to slow down.

    Clomid befools the brain, which tells it that estrogen levels in the body are relatively low. Clomid blocks estrogen binding to its receptor. The receptors cannot detect estrogen even though it is present in your bloodstream.

    As the estrogen levels appear to be low, the female body responds by producing a GnRH hormone called gonadotropin-releasing hormone. This hormone, in turn, signals pituitary glands to produce more FSH and LH. More level of FSH, it will stimulate the eggs, whereas LH hormone will trigger the process of ovulation.

    The chain reaction started by Clomid can go on for an entire month though you take the pill for only 5 days. The side effects are evident even the days after your last dose.

    Cycle Days 10-21: Monitor Follicular Growth

    Most gynecologists won’t recommend Clomid treatment cycles. However, this is something that many reproductive endocrinologists do. Clomid cycles are monitored by fertility doctors for two main reasons.

    1. Keep an eye on the number of follicles that grow to cancel a cycle if there is more than one.
    2. Time a trigger shot (or intrauterine insemination).

    The monitoring of the cycle begins a few days after you take your Clomid pill. It may require ultrasounds and bloodwork every few days until you ovulate. Your doctor will take measurements of the growing follicles and then decide based on their growth whether to give you a trigger shot (if necessary), IUI or intercourse.

    Your doctor may recommend that you skip the cycle if two mature-sized follicles are present. Although twin conceiving is more likely with two large follicles, it’s still possible. Discuss with your doctor whether it is essential for you to not have twins. 

    Your doctor will cancel your cycle if there are three or more mature follicles. This means that you won’t be allowed to have sex to avoid having children. If you had an IUI or trigger shot to avoid multiple pregnancies, they would not be given. This poses serious risks for your future babies.

    You should not ignore your doctor’s warnings if your cycle is canceled. It may seem tempting to ignore them and continue having sex. This could be an indication that Clomid is affecting your cruel body ways. Your doctor may adjust your treatment next time so that it doesn’t stimulate as many eggs. It will be good for your health if you wait for the next cycle, which in this case, is far better than carrying a high-risk pregnancy.

    Cycle Days 15-25: Trigger Shot

    A fertility specialist may recommend an injection that triggers the hormone human chorionic gonadotropin (hCG), along with the dose of Clomid, which is generally known as a trigger shot. A trigger shot starts the ovulation process to happen within 24 to 36 hours of injecting. Your doctor may prescribe a trigger shot to speed up IUI or intercourse or give your ovaries an extra boost.

    When you read about pregnancy tests, you may have come across hCG (the pregnancy hormone). The body similarly responds to hCG as LH (the hormone that peaks just before ovulation) and signals the follicles for rupture and the release of an egg.

    The trigger shot is generally given seven to nine days after taking your last Clomid Pill. However, it can be given earlier if ultrasound monitoring determines that your follicles require more time to mature before being released by their follicle beds.

    Cycle Days 10-17: IUI/Timed Intercourse and Ovulation

    Clomid is most effective when taken between days 3 and 7. This means that Clomid can be used on days 10, 11, or 16. Clomid taken on days 5 to 9 is more likely to induce ovulation However, ovulation may occur up to 10 days after the last Clomid pill. This is something you should keep in mind. Ovulation could occur within 24 to 36 hours if you received a trigger shot.

    You should have sex every day three days after your last clomid pill or as suggested by the doctor. Continue to have sex until your doctor confirms that ovulation has occurred. A body basal temperature chart (BBT) or a progesterone test (given on the 21st day of the cycle) may verify your ovulation.

    Is your IUI cycle complete? Your doctor will determine when you should visit for an IUI. This is based on the timing of your trigger shots and your ultrasounds. You can have sex at home on your fertile days in most cases.

    Cycle Days 19 and 21: Progesterone Blood Test

    Both fertility specialists and gynecologists will typically order a progesterone test between days 19-21. However, it can be done later if your doctor knows that you have ovulated after day 21.

    Progesterone, a hormone that rises following ovulation, and a test can be taken to confirm that Clomid caused it. It also ensures that progesterone levels are not too low. Your doctor may recommend a vaginal progesterone supplement if they are too low.

    Cycle Days 21-35 – The Wait of 2 Weeks

    After you ovulate, the two-week wait ends with either a positive pregnancy test result or your period. This is the most challenging part of the clomid cycle. You can only wait to see if the process worked.

    During the two-week wait, mild symptoms may occur of ovarian hyperstimulation disorder (OHSS). Bloating is the most common symptom of OHSS. Although it is rare to have a severe case while taking Clomid, it can happen. If you have any concerns or symptoms, contact your doctor immediately.

    Cycle Days 28 & 35: Pregnancy Test

    A beta pregnancy test, which measures the amount of hCG in the blood, may be ordered by your doctor during the two-week wait. Or they may request blood work only at the end. You may also be asked to do an at-home pregnancy check between days 28 and 35. If you receive a positive result, they will instruct you to call.

    Congratulations if the test comes back positive! Your doctor will likely keep an eye on your pregnancy for several weeks to ensure it is running smoothly and verify if twins or more have been conceived. It’s normal to feel more anxious than excited if you are feeling nervous. It can be challenging to become pregnant after infertility because of motherly instincts and emotions.

    How Long Does It Take to Get Pregnant on Clomid?

    The average menstrual cycle for women is 28 days long, with fluctuations in Gonadotropins, pituitary hormones, and phases of the luteal phase. There are follicular phases and luteal phases. The follicular phase includes the release of luteinizing and follicle-stimulating hormones. These hormones help to prepare and facilitate the growth and maturation of the ovum. In preparation for conception, the luteal phase involves the elevation of estrogens and progesterone. This occurs after ovulation has happened from day 18.

    Clomid pills are usually taken between 5 and 10 days before ovulation. Clomid is most effective if taken between days 3 and 7. However, ovulation can occur up to 10 days after the last Clomid pill.

    Early Signs of Pregnancy Following Clomid

    Pregnancy is one of the most beautiful times in a woman’s life. It brings you a baby and changes your life. You should find out as soon as possible if there is even a slight chance you are pregnant.

    The following points explain what are the early signs of pregnancy after Clomid.

    Tenderness of Breasts

    Within one to two weeks after conception, many women experience tenderness and swelling in their breast tissue. Breast tenderness can also be caused by Clomid in high doses. It is difficult to distinguish the cause of this condition. This symptom can increase if you are pregnant. It may also continue to worsen as your pregnancy progresses. These symptoms may subside after the Clomid is released from your body gradually.

    Vomiting and Nausea

    Nausea and vomiting are other common symptoms of pregnancy. These symptoms usually appear between two to eight weeks after conception. Clomid high doses can cause nausea and vomiting, just as breast tenderness. This symptom may persist into the first trimester of pregnancy.

    Implantation Bleeding

    Women may experience slight bleeding or spotting after the fertilized egg implants in the lining of their uterus. This symptom may appear around a week before your next period. This could indicate a growing baby.

    Fatigue

    Many pregnant women experience fatigue during pregnancy. This may happen as soon as one week after conception. This symptom may also be caused by side effects of Clomid, which can mimic the symptoms. Some women wonder if they are actually pregnant or a side effect of the medicine they have taken to conceive.

    You are missing your period.

    Your regular period may be missed if your fertility treatment is successful and Clomid works as it should. Some women may experience brief periods in early pregnancy. However, many experience an abrupt stoppage of their menstrual cycles. This will indicate that a fetus is growing in the mother’s womb.

    Risks of Taking Clomid When You Already Ovulate

    Clomid, a pill, is taken during the early five days of menstrual cycles. Clomid has been used in the United States to treat infertility since 1967. It has a reasonable success rate with a low (5-8%) chance of multiple gestations. Clomid can induce ovulation in women who have not yet ovulated. To increase fertility and induce ovulation, this oral pill can be taken by women with ovulatory problems, such as PCOS (polycystic ovary syndrome). The brain may not send the proper signal to the ovaries to induce ovulation in some types of ovulatory disorders. The hormones FSH and LH are used to transmit this signal. This hormone is released by the brain and can cause ovulation.

    It can be used to induce “superovulation” in women who have already begun to ovulate, which means that women will release more than one egg in a month. Women who frequently ovulate usually conceive only one egg per month. In the absence of fertility medication, singleton pregnancies are more common. Clomid increases the amount of FSH (follicle-stimulating hormone) released that is secreted from the pituitary glands of the female. FSH may stimulate more eggs to ovulate if there is a higher level of FSH in the ovary. It usually causes two to three eggs to ovulate. This increases pregnancy rates and also increases the chances of multiple gestations (twins, triplets). Clomid does not increase the risk of multiple pregnancies.

    What are the potential risks associated with multiple gestations?

    Clomid is used by approximately 5-8% of women who have multiple gestations. These pregnancies almost always result in twins. However, 1% of Clomid-using women conceive triplets. A pre-ovulation ultrasound can show you the number of eggs you are likely to produce and help you estimate your risk for multiple gestations. If too many eggs are developing, your doctor may decide to cancel your cycle. You will have to continue using contraception until your next period. The dose of Clomid will be lowered so that the chances of multiple gestations are less.

    To ensure your hormone levels are correct, you will need to have your blood tested. Your doctor may also need to run a few cycles to determine if you are ovulating. Clomid can not only stimulate your ovaries to produce eggs and ovulate, but it can also ensure that your ovulation is strong.

    Taking Clomid Without a Period

    It is possible to take Clomid without any periods. This is one reason it’s recommended. Clomid usually starts on the third or fifth day of the menstrual cycle. Doctors may prescribe progesterone-like medications to induce the period. This is what can happen if your cycles are irregular and you’re seeing an ob-gyn doctor for fertility treatment.

    After a recent article was published, fertility specialists adopted this new thinking approach, which suggested that a period is unnecessary for fertility pills to be successful. The chances of success are even lower if fertility medications induce a period in the females trying to conceive a baby. This is known as the “stair step protocol,” which means less time to induce ovulation and less time to conceive a child.

    Clomid is still traditionally used by most ob-gyn physicians. Fertility specialists are more up-to-date on the latest treatments and are more likely to offer the stair step. Your doctor will need you to prove that you are not pregnant or have not had a fetus before beginning fertility drugs. These drugs can be more harmful than beneficial if they are used at the wrong time.

    Clomid Cramps After Ovulation

    Clomid can cause severe ovulation pain. Clomid can cause a marked increase in ovaries. However, not all follicles will ovulate simultaneously. This causes persistent pain and the perception that the pain is constant. If the pain does not subside within 24 hours, an ultrasound scan should rule out hemorrhagic cysts. Clomid patients are at high risk for ovarian hyperstimulation syndrome. This can be checked by ultrasound.

    What are the symptoms of ovulation cramps?

    Ovulation cramping can cause mild discomfort or severe pain. Sometimes it can be challenging to pinpoint the source of the pain. Ovulation cramping can be described as pain in one side of the abdomen. This usually lasts between 3-12 hours. A person who has had an ovarian procedure may feel cramps until menstruation.

    Here are some characteristics of ovulation cramping.

    • The pain on the sides of the abdomen
    • Pain or cramping during mid-menstrual cycle
    • cramping that changes sides every month
    • Pain that is severe and sharp.

    What Happens When You Stop Taking Clomid ?

    There are some adverse effects that Clomid can cause. Some women who use Clomid may experience adverse effects, but not all. Clomid can have the following side effects on women who stop using it:

    Hot flashes

    Sometimes, hot flashes can be a side effect of Clomid. These hot flashes are similar to those experienced by a menopausal woman. These are irritating and usually not severe enough for you to stop taking the medication.

    The thinner uterine endometrial lining

    Clomid treatment cycles can cause some women to have a thin uterine wall (endometrium). This is due to Clomid’s anti-estrogenic effects. The development of thickened endometrium is stimulated by estrogen during a natural menstrual cycle.

    Clomid, which is anti-estrogenic, can sometimes prevent the development of total thickness. We prefer an endometrial thickness of 8 to 9 millimeters. Clomid cycles can sometimes result in the lining not getting thicker than 6-7 mm.

    Visual disturbances

    Sometimes, visual abnormalities like blurred vision or flashes of light can be experienced. Clomid should not be used if these symptoms occur.

    Mood swings and psychological side effects

    Clomid can cause emotional or psychological side effects. Clomid can cause adverse psychological side effects in approximately one-fourth of women. These side effects are sometimes described as “severe mood swings” and “increased irritability.”

    Many women claim that they experience “really bad PMS” after taking the drug. These side effects may not be shared by all women. These side effects can usually be tolerated, but some women may discontinue taking the medication.

    Best Days to Take Clomid for Success

    Clomid has a 73 percent success rate in ovulation. Clomid can induce ovulation in as many as 80 percent of women. Clomid can be used to improve a woman’s fertility and increase her chances of getting pregnant.

    The sperm can survive up to 7 days in the female reproductive system. Start sex the day after your last Clomid dose. As Clomid ovulation approaches, you can increase the frequency of your sex. 

    Due to an increased risk of developing ovarian cancer, Clomid should be stopped after six cycles. Clomid should be taken at the same time each day. Some people believe that taking a pill before bed can help with side effects. You can take Clomid at a different time of day if you are on another Clomid cycle. However, don’t change your schedule once you start it.

    Although you won’t experience ovulation for the first five days of Clomid use, Clomid will start a chain reaction, eventually leading to ovulation.

Bhamashah Digital Parivar Yojana  

Bhamashah Digital Parivar Yojana

To improve the lives of economically backward families in the state, the Government of Rajasthan has launched many schemes under Bhamashah Yojana. The financial assistance provided to the beneficiaries under this scheme is directly transferred into their bank accounts. One such scheme was introduced by the Rajasthan government. In September 2018, Vasundhara Raje, the former chief minister of Rajasthan launched the Bhamashah Digital Parivar Yojana. Under this scheme, the Rajasthan government will provide a smartphone for just Rs. 501 to a member of the Bhamashah family. On returning the phone after three years, this money will also be refunded to the beneficiary.

The purpose of this scheme is to connect the people of Rajasthan with many online schemes through digital connectivity. The scheme was launched under the vision of the Raje government in association with Jio Reliance. An electronic service delivery platform was set up under this scheme.

Objectives of Bhamashah Digital Parivar Yojana

The state government of Rajasthan believes that many Bhamashah card holder families living in the rural areas have been often deprived of the benefits of innovations. Therefore, special efforts have been by the government to provide mobile access to people to take the advantage of Bhamashah Digital Parivar Yojana. Following are some of the features of the Bhamashah Mobile Program:

  • The main goal of & Bhamashah Digital Parivar Yojana is to upgrade the lives of people living in the weaker section of society.
  • The scheme is an initiative by the government of Rajasthan to support the Prime Ministers Digital India Program.
  • Women empowerment is also one of the primary aims of the Bhamashah Digital Parivar Yojana.
  • Under the scheme, financial assistance is provided to eligible candidates in the form of smartphones and internet connections.
  • The objective of this scheme is to connect economically backward families with various online schemes provided by the government.

Bhamashah Digital Parivar Yojana- Mobile Scheme- How does it work?

Under Bhamashah Digital Parivar Yojana, one crore families will be provided with mobile phones at a security deposit of Rs. 501. Beneficiaries will be given the financial assistance of rupees one thousand in two installments. A total of Rs. 500 will be given as the first installment for the smartphone. Whereas, the rest of the money will be given as an incentive in the second installment for the internet connection. The government of Rajasthan will directly deposit the amount of the first installment in the beneficiaries’ bank account, and the process does not require any application to be filled.

Various camps are organized under this scheme by the district administration or Panchayat Samiti. Applicants can buy the smartphone of their choice through these camps. Applicants can also buy the mobile phone of their choice from any shop and internet services from any service provider.

After purchasing the mobile phone, the beneficiary has to download any one of the mobile applications by the state government on his smartphone. These mobile applications include E-Mitra, Rajasthan Sampark, Bhamashah Wallet, Raj Mail, etc. All these apps have the feature to register the smartphone purchased by the applicants. After the successful registration of the smartphone, the second installment of Rs. 500 will be credited to the beneficiary bank account.

Eligibility to apply in Bhamashah Digital Parivar Yojana Rajasthan

  • The applicant must be a permanent resident of Rajasthan.
  • The mobile number must be in the name of a female member of the family.
  • Applicants from BPL (below poverty line) families are eligible under this scheme.
  • Applicants must have been registered with a Bhamashah Family Program.

Documents required to apply forBhamashah Digital Parivar Yojana

  • Certificate of permanent residence of Rajasthan.
  • Two passport-size photographs
  • Aadhar card
  • Voter ID card
  • Bhamashah family card
  • Bank account linked to Bhamashah Yojana
  • National Food Security Act (NFSA) card, and more.

How to apply forBhamashah Digital Parivar Yojana?

  • There is no separate application process that needs to be followed for the Bhamashah Digital Parivar Yojana scheme.
  • The state government of Rajasthan will distribute the said money to only those who are registered under the Bhamashah scheme.

Who are not eligible forBhamashah Digital Parivar Yojana?

  • A person who already has an android phone and a secured internet connection is not eligible for this scheme.
  • To avail of the benefits of this scheme, the applicant has to ensure that their name is registered in the camps or shops from where they will purchase their mobile phones.

Bhamashah Digital Parivar Yojana in Hindi

राज्य में आर्थिक रूप से पिछड़े परिवारों के जीवन को बेहतर बनाने के लिए, राजस्थान सरकार ने भामाशाह योजना के तहत कई योजनाएं शुरू की हैं। इस योजना के तहत लाभार्थियों को प्रदान की जाने वाली वित्तीय सहायता सीधे उनके बैंक खातों में स्थानांतरित की जाती है। ऐसी ही एक योजना राजस्थान सरकार द्वारा शुरू की गई थी। सितंबर 2018 में, राजस्थान की पूर्व मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे ने भामाशाह डिजिटल परिवार योजना शुरू की। इस योजना के तहत, राजस्थान सरकार सिर्फ रुपये में एक स्मार्टफोन प्रदान करेगी। 501 भामाशाह परिवार के एक सदस्य को। तीन साल बाद फोन वापस करने पर यह पैसा भी लाभार्थी को वापस कर दिया जाएगा।

इस योजना का उद्देश्य राजस्थान के लोगों को डिजिटल कनेक्टिविटी के माध्यम से कई ऑनलाइन योजनाओं से जोड़ना है। यह योजना जियो रिलायंस के सहयोग से राजे सरकार के विजन के तहत शुरू की गई थी। इस योजना के तहत एक इलेक्ट्रॉनिक सेवा वितरण मंच स्थापित किया गया था।

भामाशाह डिजिटल परिवार योजना के उद्देश्य

राजस्थान की राज्य सरकार का मानना ​​है कि ग्रामीण क्षेत्रों में रहने वाले कई भामाशाह कार्ड धारक परिवार अक्सर नवाचारों के लाभों से वंचित रहे हैं। इसलिए सरकार द्वारा भामाशाह डिजिटल परिवार योजना का लाभ लेने के लिए लोगों को मोबाइल की सुविधा उपलब्ध कराने के लिए विशेष प्रयास किए गए हैं। भामाशाह मोबाइल कार्यक्रम की कुछ विशेषताएं निम्नलिखित हैं:

  • भामाशाह डिजिटल परिवार योजना का मुख्य लक्ष्य समाज के कमजोर वर्ग में रहने वाले लोगों के जीवन को उन्नत करना है।
  • यह योजना राजस्थान सरकार द्वारा प्रधान मंत्री डिजिटल इंडिया कार्यक्रम का समर्थन करने के लिए एक पहल है।
  • महिला सशक्तिकरण भी भामाशाह डिजिटल परिवार योजना के प्राथमिक उद्देश्यों में से एक है।
  • इस योजना के तहत पात्र उम्मीदवारों को स्मार्टफोन और इंटरनेट कनेक्शन के रूप में वित्तीय सहायता प्रदान की जाती है।
  • इस योजना का उद्देश्य आर्थिक रूप से पिछड़े परिवारों को सरकार द्वारा प्रदान की जाने वाली विभिन्न ऑनलाइन योजनाओं से जोड़ना है।

भामाशाह डिजिटल परिवार योजना- मोबाइल योजना- यह कैसे काम करती है?

भामाशाह डिजिटल परिवार योजना के तहत, एक करोड़ परिवारों को रुपये की सुरक्षा जमा पर मोबाइल फोन प्रदान किए जाएंगे। 501. लाभार्थियों को दो किश्तों में एक हजार रुपये की आर्थिक सहायता दी जाएगी। कुल रु. स्मार्टफोन के लिए पहली किस्त के तौर पर 500 रुपये दिए जाएंगे। वहीं, बाकी की रकम इंटरनेट कनेक्शन के लिए दूसरी किस्त में प्रोत्साहन के तौर पर दी जाएगी. राजस्थान सरकार पहली किश्त की राशि सीधे लाभार्थियों के बैंक खाते में जमा करेगी, और इस प्रक्रिया को भरने के लिए किसी आवेदन की आवश्यकता नहीं है।

इस योजना के तहत जिला प्रशासन या पंचायत समिति द्वारा विभिन्न शिविरों का आयोजन किया जाता है। आवेदक इन कैंपों के माध्यम से अपनी पसंद का स्मार्टफोन खरीद सकते हैं। आवेदक अपनी पसंद का मोबाइल फोन किसी भी दुकान से और इंटरनेट सेवा किसी भी सेवा प्रदाता से खरीद सकते हैं।

मोबाइल फोन खरीदने के बाद, लाभार्थी को राज्य सरकार द्वारा अपने स्मार्टफोन में किसी एक मोबाइल एप्लिकेशन को डाउनलोड करना होगा। इन मोबाइल एप्लिकेशन में ई-मित्र, राजस्थान संपर्क, भामाशाह वॉलेट, राज मेल आदि शामिल हैं। इन सभी ऐप में आवेदकों द्वारा खरीदे गए स्मार्टफोन को पंजीकृत करने की सुविधा है। स्मार्टफोन के सफल पंजीकरण के बाद, रुपये की दूसरी किस्त। 500 लाभार्थी के बैंक खाते में जमा किया जाएगा।

भामाशाह डिजिटल परिवार योजना राजस्थान में आवेदन करने की पात्रता

  • आवेदक राजस्थान का स्थायी निवासी होना चाहिए।
  • मोबाइल नंबर परिवार की महिला सदस्य के नाम होना चाहिए।
  • इस योजना के तहत बीपीएल (गरीबी रेखा से नीचे) परिवारों के आवेदक पात्र हैं।
  • आवेदकों को भामाशाह परिवार कार्यक्रम के साथ पंजीकृत होना चाहिए।

भामाशाह डिजिटल परिवार योजना के लिए आवेदन करने के लिए आवश्यक दस्तावेज

  • राजस्थान के स्थायी निवास का प्रमाण पत्र।
  • दो पासपोर्ट साइज फोटो
  • आधार कार्ड
  • वोटर आई कार्ड
  • भामाशाह परिवार कार्ड
  • भामाशाह योजना से जुड़ा बैंक खाता
  • राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा अधिनियम (NFSA) कार्ड, और बहुत कुछ।

भामाशाह डिजिटल परिवार योजना के लिए आवेदन कैसे करें?

  • भामाशाह डिजिटल परिवार योजना योजना के लिए कोई अलग आवेदन प्रक्रिया नहीं है जिसका पालन करने की आवश्यकता है।
  • राजस्थान की राज्य सरकार उक्त राशि को केवल भामाशाह योजना के तहत पंजीकृत लोगों को ही वितरित करेगी।

भामाशाह डिजिटल परिवार योजना के लिए कौन पात्र नहीं हैं?

  • एक व्यक्ति जिसके पास पहले से ही एक एंड्रॉइड फोन और एक सुरक्षित इंटरनेट कनेक्शन है, वह इस योजना के लिए पात्र नहीं है।
  • इस योजना का लाभ लेने के लिए आवेदक को यह सुनिश्चित करना होगा कि उनका नाम उन शिविरों या दुकानों में पंजीकृत है जहां से वे अपना मोबाइल फोन खरीदेंगे।

पुत्र प्राप्ति के लिए क्या करना चाहिए

पुत्र प्राप्ति के लिए क्या करना चाहिए

पेरेंटहुड सबसे अधिक पोषित भावनाओं में से एक है जिसे एक जोड़े ने अपनी शादी की अवधि के दौरान अनुभव किया है। एक जोड़े के जीवन में बच्चा अपने परिवार को पूरा करता है और माता-पिता अपने बच्चे को बढ़ते हुए देखकर आनंद लेते हैं और उनके लिए हर संभव प्रयास करते हैं। एक लड़की और एक लड़के के बच्चे के पालन-पोषण के अलग-अलग तरीके हैं। वैसे तो आधुनिक युग में माता-पिता के लिए प्रत्येक बच्चा समान रूप से महत्वपूर्ण है, लेकिन फिर भी देश के कुछ हिस्सों में पुरुष बच्चे को लेकर जुनून है। पुरुष बच्चे को गर्भ धारण करने के लिए लोग तरह-तरह के प्रयास करते हैं लेकिन कभी-कभी भाग्य उनका साथ नहीं देता और वे एक पुरुष बच्चे को पाने के लिए हर संभव कोशिश करते हैं। इस लेख में, हम हिंदू पौराणिक कथाओं के अनुसार एक पुरुष बच्चे को गर्भ धारण करने के तरीके के बारे में मार्गदर्शन करेंगे और विभिन्न अन्य ग्रहों के कारकों की व्याख्या भी करेंगे, जिसमें महिला का समय भी शामिल है जब वह निश्चित रूप से एक बच्चे को गर्भ धारण करेगी।

हिंदू पौराणिक कथाओं के अनुसार पुत्र को कैसे गर्भ में धारण करें?

यद्यपि गर्भ धारण करने की कोई निश्चित विधि नहीं है, यदि आप हिंदू पौराणिक कथाओं में बताए गए कुछ नियमों का पालन करते हैं, तो आपके पास एक बच्चे को गर्भ धारण करने का एक बेहतर मौका होगा। उनके अनुसार, एक पुरुष बच्चे को गर्भ धारण करने के लिए आपको अपने पुत्र और चंद्रमा को तेज करना होगा। आइए कुछ युक्तियों पर एक नज़र डालते हैं जो आपके माता-पिता को गले लगाने के लिए एक बच्चे की तलाश में मददगार होंगी:

  • विधि का पालन करने से कम से कम 2 महीने पहले गर्भनिरोधक गोलियों से बचें और कम से कम एक सप्ताह के लिए अच्छे मूड में रहें। एक और बात यह है कि आपको कम से कम एक महीने के लिए सेक्स करना बंद कर देना चाहिए ताकि आपके शरीर के प्रजनन द्रव खुद को पुन: उत्पन्न कर सकें।
  • सबसे पहले उस समय को गिनना शुरू करें जब आपको सबसे पहले ब्लीडिंग हुई, यानी आपके पीरियड्स का पहला दिन। संदर्भ के लिए हम कहते हैं कि आप बुधवार को शाम 5 बजे रक्त देखें, तो आपका दिन 1 गुरुवार शाम 5 बजे समाप्त होगा।
  • पीरियड्स के दौरान सेक्स से बचें और इस दौरान कोई भी काम न करें।
  • सांस लेने की तकनीक का एक साथ अभ्यास करें और प्रक्रिया को पूरा करने से पहले आपको एक साथ कुछ पढ़ने की कोशिश करनी चाहिए।
  • अब आता है मुख्य भाग जो सेक्स कर रहा है। जब भी आप किसी लड़के की तलाश कर रही हों तो पीरियड्स खत्म होने के 2, 4, 6, 8वें दिन सम दिनों में सेक्स करने की कोशिश करें। मासिक धर्म के बाद का 8वां, 10वां, 12वां दिन गर्भ धारण करने के लिए सबसे अच्छा होता है।
  • पत्नी को हमेशा पति के बाईं ओर सोना चाहिए और सांस लेने की स्थिति लागू होने तक प्रेमालाप के दौरान अपने पति का सामना करना चाहिए।
  • उन अनुशंसित दिनों में ही सेक्स करना चाहिए और ग्रहों की स्थिति के अनुसार पुरुषों के लिए सूर्य अधिक शक्तिशाली होता है जो कि पुरुष की श्वास उसके दाहिने नथुने से अधिक शक्तिशाली होती है और महिला की श्वास बाएं नथुने से अधिक शक्तिशाली होती है। श्वास को शक्तिशाली बनाने के लिए आपको अपने साथी के साथ 5 मिनट से अधिक समय तक फोरप्ले करने की आवश्यकता है। नाक के एक तरफ को बंद करके श्वास की जाँच की जा सकती है।

आयुर्वेद के अनुसार जब आप अपने साथी को गर्भवती करने की कोशिश कर रहे हों तो आपको मासिक धर्म से 10-15 दिनों के बीच सेक्स करना चाहिए क्योंकि यह गर्भ धारण करने का सबसे अच्छा समय है। कम से कम 2 महीने तक गर्भवती होने के बाद योनि सेक्स से बचें।

एक पुत्र को गर्भ में धारण करने के लिए – भारतीय कैलेंडर 2021

बच्चा लड़का कई जोड़ों के लिए एक लक्ष्य है। यदि हम हिंदू कैलेंडर के अनुसार देखें तो कुछ ही दिन होते हैं जब आप गर्भधारण के लिए जा सकते हैं और महिला एक पुरुष बच्चे को जन्म देगी। जैसा कि ऊपर उल्लेख किया गया है कि मासिक धर्म के बाद के दिनों में भी लड़कों के लिए सबसे अच्छा है, फिर भी कुछ नक्षत्र और लग्न हैं जो तब फायदेमंद होते हैं जब आप एक पुरुष बच्चे को गर्भ धारण करने की कोशिश कर रहे हों। भारतीय कैलेंडर के अनुसार एक बच्चे को गर्भ धारण करने के लिए यहां कुछ तिथियां दी गई हैं, जब आप एक पुरुष बच्चे के लिए जा रहे हैं:

गर्भधान संस्कार षोडश संस्कार का पहला संस्कार है जिसे पूर्व नियोजित पारिवारिक मामला माना जाता है। गर्भधान मुहूर्त एक अवधारणा है जहां एक पति और पत्नी धार्मिक शुद्धता के साथ सही समय पर अपनी संतान की योजना बनाने के लिए मिलते हैं। गर्भधान संस्कार महिला गर्भाधान और प्रजनन प्रणाली से संबंधित सभी अशुद्धियों को दूर करने में मदद करता है जो एक स्वस्थ बच्चे के जन्म को सुनिश्चित करता है।

यहां ग्रहों की स्थिति के अनुसार सर्वोत्तम समय का विवरण दिया गया है जो हिंदू कैलेंडर के अनुसार निर्धारित हैं।

गर्भाधान का समय:

Conception should be done on the 8th, 10th, 12th, 14th, and 16th night after menstruation as these days are considered auspicious.

गर्भाधान के लिए विचार करने के लिए नक्षत्र:

There are some fixed nakshatras that are considered the best time for conception. 

शुभ नक्षत्र: अनुराधा, धनिष्ठा, हस्त, मृगशिरा, रोहिणी, शतभिषा, स्वाति, उत्तर-भाद्रपद, उत्तर-फाल्गुनी और उत्तर-शदा

खराब नक्षत्र: आर्द्रा, अश्लेषा, भरणी, ज्येष्ठ, कृतिका, माघ, मूल, पूर्व-भाद्रपद, पूर्व-फाल्गुनी, पूर्वा-शधा, रेवती

गर्भाधान के लिए दशमांश:

हिंदू कैलेंडर के अनुसार गर्भाधान के लिए सर्वोत्तम तिथियां 1,3,5,7,10,12,13 हैं। 4,9,14, 6, 8, 11. संतान के लिए इन तिथियों पर गर्भधारण से बचें। गर्भधारण के लिए अमावस्या और पूर्णिमा की रातों से भी बचना चाहिए।

Days for Conception:

शुक्ल पक्ष के सोमवार, बुधवार, गुरुवार और शुक्रवार को संतान प्राप्ति के लिए उत्तम माना गया है

गर्भाधान के लिए लग्न:

लग्न पुरुष ग्रहों के अनुरूप होना चाहिए जो सूर्य, मंगल और बृहस्पति हैं। चंद्रमा का भी नवांश भाव में होना आवश्यक है। बृहस्पति को मंगल और सूर्य के अक्षय में स्थित होना चाहिए, जो पुरुष ग्रह हैं।

पुत्र पैदा करने का आयुर्वेदिक इलाज

आयुर्वेद सबसे पुरानी विधियों में से एक है जिसमें स्वास्थ्य संबंधी हर समस्या का समाधान है। प्राचीन समय में डॉक्टर नहीं होते थे इसलिए लोग आयुर्वेदिक उपचार करते थे। आधुनिक युग में भी ऐसा ही है, जब भी किसी विशेष समस्या का कोई समाधान नहीं होता है, लोग आयुर्वेदिक तरीके से जाना पसंद करते हैं। जब भी आप एक बच्चे को गर्भ धारण करने की कोशिश कर रहे हों तो आयुर्वेद में कुछ उपाय हैं जो आपके गर्भ में एक नर बच्चे को जन्म देने में आपकी मदद करेंगे। आइए एक नजर डालते हैं बच्चे को गर्भ धारण करने के आयुर्वेदिक उपचारों पर:

विधि 1:

बरगद के पेड़ की शाखाओं का उपयोग करके यह विधि पूरी की जाएगी। किसी भी बरगद के पेड़ का पता लगाएँ और उन शाखाओं को हटा दें जो उत्तर या पूर्व की ओर उन्मुख हैं। उसके बाद आपको उड़द की दाल के 2 दाने लेने हैं और फिर सभी सामग्री को दही के साथ पीस लें। उसके बाद मिश्रण का सेवन करें ताकि आप नर बच्चे को सहन करने के लिए तैयार हों

विधि 2:

आपको लोहे, सोने या चांदी की छोटी-छोटी मूर्तियाँ बनानी होंगी और मूर्तियों को भट्टी में फेंकना होगा। इसके बाद आपको दही, दूध या पानी में पिघला हुआ तत्व डालना है और उस मिश्रण को पुष्प नक्षत्र के शुभ मुहूर्त में पीना है.

पीरियड्स के बाद पुत्र को गर्भ धारण करने का सबसे अच्छा समय

पीरियड्स बच्चों के पैदा होने का एक कारण है। यदि महिला को मासिक धर्म होता है तो यह एक स्वस्थ महिला का संकेत है और वह एक बच्चे को जन्म देने के लिए तैयार है। बच्चे के लड़का या लड़की होने की संभावना 50-50 है लेकिन इन बाधाओं को प्रभावित किया जा सकता है जो बच्चे के लिंग का निर्धारण कर सकते हैं। यह एक मिथक है कि जब आपको बच्चे की आवश्यकता होगी तो आपको जितना हो सके उतना सेक्स करना होगा लेकिन लोगों को यह नहीं पता कि सेक्स का समय भी एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है।

जब भी आप गर्भवती होने की कोशिश कर रही हों, तो अपने ओवुलेशन पीरियड के दौरान सेक्स करने की कोशिश करें। ओव्यूलेशन एक प्रक्रिया है जब एक अंडाशय मादा के फैलोपियन ट्यूब में एक परिपक्व अंडा छोड़ता है और उसके बाद, यह गर्भाशय में चला जाता है। गर्भाशय में अंडे की जीवित रहने की अवधि लगभग 12-24 घंटे होती है और जब यह शुक्राणु के साथ निषेचित हो जाता है तो एक महिला गर्भवती हो जाती है। ओव्यूलेशन पीरियड के दौरान महिलाओं का सर्वाइकल म्यूकस पतला हो जाता है और ओव्यूलेशन पीरियड के दौरान यह अधिक फिसलन भरा हो जाता है। यह शुक्राणुओं को प्रजनन पथ में अधिक आसानी से स्थानांतरित करने में मदद करता है।

पुत्र को गर्भ धारण करने का सबसे अच्छा समय

ओव्यूलेशन कैलेंडर और गर्भाधान की तारीख से बच्चे का लिंग कुछ हद तक निर्धारित किया जा सकता है। जब भी आप एक पुरुष बच्चे की तलाश कर रहे हों तो आपके अंडे को एक वाई-शुक्राणु द्वारा निषेचित करने की आवश्यकता होती है जो एक नर बच्चे का वाहक होता है। Y-शुक्राणु हल्का, छोटा होता है और उनके सिर गोल होते हैं इसलिए वे प्रजनन पथ में तेजी से यात्रा करते हैं और उनका जीवन काल कम होता है। जो जोड़े एक बच्चे को गर्भ धारण करने की कोशिश कर रहे हैं, उन्हें मासिक धर्म की अवधि और ओव्यूलेशन अवधि से पहले के दिनों के बीच सेक्स से बचना चाहिए। पुरुष बच्चे को पाने के लिए ओवुलेशन के दिन और आपके शरीर में ओव्यूलेशन होने के 2-3 दिन बाद सेक्स करना चाहिए। आदर्श स्थिति ऐसी स्थिति में सेक्स करना है जो शुक्राणु को एक महिला के गर्भाशय ग्रीवा के करीब जमा करने की अनुमति देगा।

इसके अलावा, संभोग का समय भी एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। जो जोड़े एक लड़के के लिए प्रयास कर रहे हैं, उन्हें पहले महिला को संभोग सुख देने की कोशिश करनी चाहिए। चूंकि महिलाओं के कामोन्माद के दौरान स्राव अधिक क्षारीय प्रकृति का होता है और पुरुष शुक्राणु क्षारीय वातावरण में तेजी से यात्रा करते हैं, इसलिए आपके गर्भ धारण करने की संभावना तेजी से बढ़ जाती है।

लड़का/ पुत्र या लड़की गर्भ धारण करने के लिए उपजाऊ दिन

बच्चों के उत्पादन में पुरुषों और महिलाओं के शरीर की भूमिका को समझना महत्वपूर्ण है। महिलाओं में, प्रक्रिया अंडाशय में ओव्यूलेशन के साथ शुरू होती है, जबकि अंडे परिपक्व होते हैं, सबसे परिपक्व अंडा फैलोपियन ट्यूब के नीचे जाता है और शुक्राणु के अंडे से मिलने के 12-24 घंटों के भीतर निषेचित किया जाना चाहिए। यदि अंडे को निषेचित नहीं किया जाता है, तो यह गर्भाशय में पहुंच जाता है और विघटित हो जाता है, जिसके परिणामस्वरूप मासिक अवधि होती है।

एक शुक्राणु कोशिका लगभग 24 घंटे में एक अंडे को निषेचित करती है। जब शुक्राणु अंडे में प्रवेश करता है, तो अंडे की सतह बदल जाती है, जिससे किसी अन्य शुक्राणु का प्रवेश करना असंभव हो जाता है। निषेचन के समय बच्चे का आनुवंशिक श्रृंगार पूरा होता है, चाहे वह लड़का हो या लड़की।

क्योंकि y‐शुक्राणु तेज़ होते हैं और पहले अंडे तक पहुंचने की प्रवृत्ति रखते हैं, आप ओव्यूलेशन ओव्यूलेशन कैलकुलेटर﴿ के जितने करीब होंगे, आपके लड़के होने की संभावना उतनी ही अधिक होगी। यदि आप ओव्यूलेशन से तीन दिन या उससे अधिक समय पहले सेक्स करते हैं, तो आपके लड़की होने की संभावना अधिक होती है क्योंकि कमजोर शुक्राणु जल्दी मर जाते हैं और अंडे के निकलने पर अधिक एक्स-शुक्राणु उपलब्ध होते हैं। दूसरी ओर, ओव्यूलेशन से 2 दिन पहले से लेकर ओव्यूलेशन के कुछ दिनों बाद तक, एक लड़के को गर्भ धारण करने के लिए बेहतर है। ओव्यूलेशन से 48 घंटे पहले 2 दिन के निशान के आसपास, अंतर 50/50 प्रतीत होता है।

शेट्टल्स विधि

कई जोड़ों ने कई वर्षों से अपने बच्चों के लिंग का निर्धारण करने के लिए गैर-आक्रामक शेट्ल्स पद्धति का उपयोग किया है। हाउ टू सिलेक्ट द सेक्स ऑफ योर बेबी के लेखक डॉ. लैंड्रम शेट्टल्स और डेविड रोरविक ने शेट्टल्स पद्धति विकसित की, जो जोड़ों को अपनी पसंद के बच्चे को गर्भ धारण करने का 75 प्रतिशत मौका देती है। इस पद्धति के पीछे मूल विचार यह है कि लड़कों में Y गुणसूत्र तेजी से चलते हैं लेकिन लड़कियों में X गुणसूत्रों की तरह लंबे समय तक नहीं टिकते हैं। विज्ञान के अनुसार, शिशु के लिंग का निर्धारण इस बात से होता है कि कौन सा लिंग गुणसूत्र पहले अंडे को निषेचित करता है। Y गुणसूत्र एक पुरुष का प्रतिनिधित्व करता है, जबकि X गुणसूत्र एक महिला का प्रतिनिधित्व करता है। प्रत्येक गुणसूत्र की विशेषताओं को समझना महत्वपूर्ण है।

पुत्र को गर्भ धारण करने के लिए क्या खाना चाहिए?

परिकल्पना के अनुसार, पुरुष ‘Y’ शुक्राणु महिला ‘X’ शुक्राणु की तुलना में तेज़ लेकिन अधिक नाजुक होते हैं। इसके अलावा, सिद्धांत के अनुसार, अम्लीय वातावरण वाई शुक्राणु को नुकसान पहुंचाते हैं, जिससे लड़की के गर्भधारण की संभावना बढ़ जाती है।

शेट्टल्स पद्धति इन दो कारकों को भुनाने का प्रयास करती है। शुक्राणु आमतौर पर एक महिला के शरीर के अंदर लगभग 5 दिनों तक जीवित रह सकते हैं। यदि आप पुरुष हैं और अपने साथी के ओव्यूलेट होने से कुछ दिन पहले भी सेक्स करते हैं, तो वे गर्भवती हो सकती हैं। अधिक अम्लीय वातावरण लड़कियों को लाभान्वित करता है क्योंकि यह पहले कमजोर शुक्राणुओं को मारता है, जिससे अंडे को निषेचित करने के लिए अधिक x-शुक्राणु उपलब्ध होते हैं। दूसरी ओर, अधिक क्षारीय वातावरण लड़कों का पक्षधर है।

क्योंकि Y गुणसूत्र का जीवनकाल छोटा होता है और वह 24 घंटे से अधिक समय तक जीवित नहीं रहेगा, Y गुणसूत्र शुक्राणु को एक लड़के के लिए जितना संभव हो अंडे के पास जमा किया जाना चाहिए, Y गुणसूत्र शुक्राणु के विपरीत, जो एक महिला के शरीर में अधिक समय तक रहेगा। 72 घंटे तक।

चूंकि वाई गुणसूत्र को अंडे के छोटे जीवनकाल के कारण पहले अंडे तक पहुंचना चाहिए, इसलिए शुक्राणु को अंडे के करीब जमा करने के लिए आदमी को मिशनरी स्थिति में गहरी पैठ का उपयोग करना चाहिए। स्खलन के दौरान महिला को अपने दोनों पैरों को अपने स्तनों के जितना संभव हो उतना ऊपर उठाना चाहिए ताकि Y गुणसूत्र एक लड़के के निर्माण के लिए अंडे को निषेचित कर सके।

शेट्टल्स एक लड़की के लिए संभोग से तुरंत पहले पानी और सिरका ‘एसिड’ का एक डूश, और एक लड़के के लिए पानी और बेकिंग सोडा ‘क्षारीय’ का एक डूश की सिफारिश करता है। पहले शेट्लस को पढ़े बिना यह प्रयास न करें! आपको उसके फॉर्मूले के अनुसार डौश को ठीक से पतला करना चाहिए, या वे मदद नहीं करेंगे और आपको नुकसान भी पहुंचा सकते हैं।﴿

यदि कोई जोड़ा लड़का पैदा करना चाहता है, तो यह भी सलाह दी जाती है कि पुरुष महिला को ओव्यूलेट करने से चार से पांच दिन पहले स्खलन से परहेज करें। यह पुरुष गुणसूत्र के साथ शुक्राणु के अधिक उत्पादन की अनुमति देता है। जब स्खलन योनि में जमा हो जाता है, तो Y-गुणसूत्र युक्त शुक्राणु के पहले अंडे तक पहुंचने की संभावना अधिक होती है।

शुक्राणु जो स्खलन से बचे रहते हैं और योनि में प्रवेश करते हैं, वे पांच दिनों तक जीवित रह सकते हैं। ऐसा इसलिए है क्योंकि सर्वाइकल म्यूकस और सर्वाइकल क्रिप्ट्स सर्वाइकल कैविटी की रक्षा करते हैं। हालांकि, अगर शुक्राणु को सूखने दिया जाता है, तो वह मर जाएगा।

पूरक / भोजन – माँ के लिए एक पुत्र को गर्भ धारण करने के लिए

यह अनुमान लगाया गया है कि आपके शरीर के पीएच स्तर को बदलने से कुछ ऐसा होता है जिससे तैराक पहले अंडे तक पहुंच पाते हैं। आपको पुरुष शुक्राणु के लिए पीएच स्तर को समायोजित करने के लिए पुरुष शुक्राणु के लिए अधिक क्षारीय योनि वातावरण उत्पन्न करने वाले भोजन और पेय पदार्थों का उपभोग करने की आवश्यकता होगी। गर्भ धारण करने की कोशिश करने से पहले, आपको अपने आहार को कुछ हफ्तों से लेकर एक महीने तक समायोजित करने की आवश्यकता होगी। इस असत्यापित इलाज के अनुसार, जो लोग अधिक क्षारीय (उच्च पीएच) “वातावरण” में रहते हैं, उनमें लड़का होने की संभावना अधिक होती है। यह विधि सुझाती है:

  • बहुत बार भोजन का सेवन करें
  • नाश्ता अनाज खाओ
  • ताजे फल और सब्जियों की खपत को बढ़ावा देना
  • पोटेशियम युक्त खाद्य पदार्थ, जैसे केला, सामन और एवोकाडो का अधिक बार सेवन करना चाहिए।
  • खट्टे फल, जड़ वाली सब्जियां और नट्स सहित क्षारीयता से भरपूर भोजन को बढ़ावा देना
  • डेयरी उत्पादों से बचना चाहिए

पूरक / खाना – पुत्र प्राप्ति के लिए पिता को क्या भोजन खाना चाहिए

सूत्रों के अनुसार प्रतिदिन 1,000 मिलीग्राम विटामिन सी लेने से पुरुषों के शुक्राणुओं की सघनता और गतिशीलता में सुधार किया जा सकता है। कुछ विटामिन, जैसे विटामिन डी, सी, ई, और सीओक्यू 10, शुक्राणु स्वास्थ्य के लिए आवश्यक हैं। हालांकि कुल शुक्राणुओं की संख्या में वृद्धि नहीं होगी, शुक्राणु अधिक केंद्रित हो जाएंगे और अधिक तेज़ी से आगे बढ़ने में सक्षम होंगे। इससे आपको गर्भधारण की बेहतर संभावना रखने में मदद मिल सकती है। दूसरी ओर, जिंक सप्लीमेंट एक आदमी के शुक्राणुओं की संख्या को बढ़ा सकता है, जबकि यह भी सुनिश्चित करता है कि उसका शुक्राणु मजबूत, तेज और स्वस्थ है। अपने जिंक के स्तर को बनाए रखने में मदद करने के लिए सीप, मांस, मुर्गी पालन, डेयरी, अंडे, साबुत अनाज, बीन्स और नट्स का सेवन बढ़ाएं।

  • ढेर सारा अनाज और स्टार्चयुक्त भोजन (कार्बोहाइड्रेट) खाएं
  • थोड़ी मात्रा में प्रोटीन (दुबला मांस, मछली और दालें)
  • कुछ डेयरी उत्पाद जो कम वसा वाले होते हैं (जैसे अर्ध-स्किम्ड दूध और दही)
  • फल और सब्जियां भरपूर मात्रा में।

How to Conceive Twins Naturally in Hindi जुड़वा बच्चे कैसे पैदा करें

कुछ लोग इस बात पर सहमत हैं और कुछ नहीं , कि उन्हें जुड़वाँ बच्चे होने चाहिए या नहीं। कुछ जोड़ों का कहना है कि वे दो बच्चे पैदा करना पसंद करेंगे, लेकिन दूसरों की प्रतिक्रिया बिल्कुल अलग होती है। वो चाहते हैं की हमे अगर दो बच्चे चाइये तो वो अगर एक साथ हो जाये तो उन्हें कोई अप्पत्ति नहीं है

गर्भाधान तब होता है जब एक शुक्राणु एक अंडे को से टकराता है, जिसके परिणामस्वरूप भ्रूण का निर्माण होता है। एक महिला जुड़वा बच्चों के साथ गर्भवती हो सकती है यदि स्पर्म और अण्डे के टकराव के समय गर्भ में दो अंडे होते हैं

और दूसरा केस है यदि निषेचित अंडा दो अलग-अलग भ्रूणों में अलग हो जाता है।

जुड़वाँ बच्चे जो बिलकुल एक जैसे होते हैं

जब एक निषेचित अंडा दो भ्रूणों में अलग हो जाता है, तो गर्भावस्था का यह रूप होता है। ये भ्रूण मोनोज़ायगोटिक होते हैं, जिसका अर्थ है कि इनमें एक दूसरे के समान जीन होते हैं। एक जैसे जुड़वाँ बचे एक ही लिंग के होते हैं या तो दोनों बचे लड़के होंगे या फिर दोनों बचे एक लड़कीअ होंगी और दोनों जुड़वाँ बचे एक दूसरे में बोहत समानता रखते हैं। जैसे की दोनों की शकल एक जैसी हो सकती है , दोनों की बोहत सी आदते एक जैसी हो सकती हैं

जुड़वा बच्चे जिनमें कोई समानता नहीं होती

जब निषेचन के समय गर्भ में दो अंडे होते हैं, और शुक्राणु उन दोनों को निषेचित करते हैं, तो इस प्रकार की गर्भावस्था होती है। ये भ्रूण द्वियुग्मज हैं, जिसका अर्थ है कि उनके पास एक ही जीन नहीं है और एक ही लिंग के हो सकते हैं या नहीं भी हो सकते हैं।

कई जोड़े जुड़वाँ बच्चे पैदा करने का सपना देखते हैं, लेकिन स्वस्थ बच्चे के जन्म पर ध्यान देना ही सबसे अच्छा है। चाहे आप कितने भी बच्चे को जन्म दे रही हों, हमेशा अपने डॉक्टर से संपर्क करें और सुरक्षित गर्भावस्था के लिए उनकी सलाह और सुझावों का पालन करें।

खाने में क्या खाये जिससे जुड़वाँ बचे होने की सम्भावना बढ़ जाती है ?

दूध से बनी चीजें

जो महिलाएं डेयरी उत्पादों का सेवन करती हैं, उनमें इन चीजों का सेवन न करने वाली महिलाओं की तुलना में जुड़वा बच्चे होने की संभावना अधिक होती है। दूध में वृद्धि हार्मोन की उपस्थिति (विकास हार्मोन से उपचारित गायों से डेयरी) जुड़वा बच्चों के गर्भाधान में सहायता करने का सुझाव दिया गया है।

ऐसा माना जाता है कि डेयरी आइटम, दूध और मांस से भरपूर आहार खाने से विशेष रूप से ओवुलेशन के समय में मदद मिलेगी। हालाँकि, इसका समर्थन करने के लिए कोई वैज्ञानिक डेटा नहीं है।

जंगली याम

रतालू और शकरकंद का सेवन बढ़ाएं। यह सच है कि जो महिलाएं उन जगहों पर रहती हैं जहां यम उनके आहार का एक बड़ा हिस्सा है, उनके जुड़वां होने की संभावना अधिक होती है। ऐसा प्रतीत होता है कि यम का एक प्राकृतिक रूप से पाया जाने वाला रासायनिक घटक डिम्बग्रंथि समारोह समर्थन में सहायता करता है।

वो खाये जिसमे जिंक की मात्रा ज्यादा हो

जिंक शुक्राणुओं की संख्या बढ़ाने के लिए दिखाया गया है। इसलिए, आप अपने साथी से अपने आहार में जिंक युक्त खाद्य पदार्थ जैसे कद्दू के बीज, भेड़ का बच्चा, हरी मटर और दही शामिल करने का आग्रह कर सकते हैं। इसमें एक से अधिक अंडों को निषेचित करने की संभावना को बढ़ावा देने की क्षमता है।

अपने साथी को सीप आज़माने के लिए प्रोत्साहित करें। सीप में जिंक प्रचुर मात्रा में होता है, जो शुक्राणु उत्पादन में सहायता करता है। उसके शुक्राणु जितने स्वस्थ और गतिशील होंगे, उसके एक या दो अंडे निषेचित करने में सक्षम होने की संभावना उतनी ही अधिक होगी। यदि वह पूरक आहार लेना चाहता है, तो पुरुषों के लिए उनके उपजाऊ वर्षों में प्रति दिन 14mg की सिफारिश की जाती है।

हरी पत्तेदार सब्जियों, अनाज, ब्रेड, बीज और गेहूं के बीज में जिंक प्रचुर मात्रा में होता है।

जुड़वा बच्चों को पैदा करने के लिए फर्टिलिटी हर्ब्स

  • माना जाता है कि इवनिंग प्रिमरोज़ तेल स्वस्थ ग्रीवा बलगम में सुधार करता है, जो शुक्राणु को अंडाशय में अधिक समय तक जीवित रहने की अनुमति दे सकता है।
  • माना जाता है कि इवनिंग प्रिमरोज़ तेल सर्वाइकल म्यूकस को स्वस्थ रखने में मदद करता है, जो शुक्राणु को अंडाशय में लंबे समय तक जीवित रहने में मदद कर सकता है।
  • अलसी का तेल प्रजनन क्षमता और जुड़वां गर्भावस्था की संभावना को बढ़ावा देने के लिए दिखाया गया है।
  • अपने हाइपर-ओव्यूलेशन गुणों के कारण, मीठे कसावा को जुड़वा बच्चों की संभावना को बढ़ाने का भी दावा किया जाता है।

जुड़वा बच्चों को पैदा करने के लिए Natural उपचार / तरीके!

वैकल्पिक उपचार इसकी अधिक संभावना बना सकते हैं। वैज्ञानिक शोध के अनुसार, एक्यूपंक्चर, प्राकृतिक चिकित्सा, अरोमाथेरेपी, कायरोप्रैक्टिक या फूलों की सुगंध से जुड़वा बच्चों के जन्म की संभावना में सुधार हो सकता है।

जुड़वा बच्चे होने की संभावना को बढ़ाने के लिए क्या क्या करें ?

  • अपनी अगली गर्भावस्था में देरी करें
  • स्तनपान के दौरान गर्भ धारण करने की कोशिश करें
  • फोलिक एसिड का सेवन बढ़ाएं
  • कुछ सेक्स पोजीशन जुड़वा बच्चों की संभावना को बढ़ाने के लिए भी जानी जाती हैं

साइंस के अकॉर्डिंग अभी क्या-क्या उपाय बताए गए हैं

  • लंबी महिलाओं में जुड़वा बच्चों के पैदा होने की संभावना अधिक होती है। यह असामान्य लग सकता है, लेकिन शोधकर्ताओं का मानना ​​​​है कि एक निश्चित इंसुलिन जैसी वृद्धि कारक को दोष देना है।
  • अधिक वजन या मोटापे से ग्रस्त महिलाओं में स्वाभाविक रूप से जुड़वां होने की संभावना बढ़ जाती है।
  • 35 वर्ष से अधिक उम्र की महिलाओं में जुड़वा बच्चों के गर्भधारण की संभावना अधिक होती है।
  • 2018 के जन्म के आंकड़ों के अनुसार, श्वेत महिलाओं की तुलना में अश्वेत महिलाएं जुड़वा बच्चों को अधिक दर से जन्म देती हैं।

30 साल की उम्र के बाद गर्भधारण करना

कुछ अध्ययनों के अनुसार, 30 से अधिक बॉडी मास इंडेक्स वाली महिला में बेहतर संभावना होती है। हालांकि, यह देखते हुए कि प्रजनन वर्षों के दौरान एक स्वस्थ वजन सीमा 20-25 पाउंड है और 30 पाउंड आपको अधिक वजन / मोटापे की श्रेणी में डाल देंगे, यह एक स्वस्थ सिफारिश नहीं है।

यह इस तथ्य के कारण हो सकता है कि 35 वर्ष की आयु के बाद, अंडाशय प्रति माह एक से अधिक अंडे छोड़ना शुरू कर देते हैं। अध्ययनों के अनुसार, जब आपकी उम्र 35 वर्ष से अधिक होती है, तो आप छोटे होने की तुलना में अधिक कूप-उत्तेजक हार्मोन बनाते हैं। इसके परिणामस्वरूप ओव्यूलेशन के दौरान एक से अधिक अंडे निकल सकते हैं, जिससे गैर-समान जुड़वा बच्चों के गर्भधारण की संभावना बढ़ जाती है।

यदि आपके परिवार में जुड़वाँ बच्चे पहले भी हुए हैं तो आपकी सम्भावना अधिक है

परिवारों में जुड़वाँ भाई इसी वजह से चलते हैं। दूसरी ओर, केवल महिलाएं ही ओव्यूलेट करती हैं। नतीजतन, मां के जीन इसके प्रभारी हैं, जबकि पिता नहीं हैं। यही कारण है कि परिवार में जुड़वाँ बच्चे केवल तभी मायने रखते हैं जब वे माँ के पक्ष में हों।

लेकिन मोनोज़ायगोटिक (समान) जुड़वां परिवारों में नहीं चलते हैं और यादृच्छिक रूप से पैदा होते हैं। आप निश्चित नहीं हो सकते हैं कि आपके परदादा संबंधित थे, और डीएनए परीक्षण के बिना निश्चित रूप से जानने का कोई तरीका नहीं है। हालांकि, समान शारीरिक समानता साझा करने के लिए समान जुड़वां भाई जुड़वां की तुलना में अधिक संभावना रखते हैं।

स्वाभाविक रूप से जुड़वा बच्चों के गर्भधारण की संभावना लगभग 3% होती है। किसी भी प्रकार की फर्टिलिटी थेरेपी पर होने से, जाहिर है, आपकी बाधाओं में काफी सुधार होगा। यदि आप आईवीएफ का उपयोग करते हैं तो आपके जुड़वाँ होने की 20-40% संभावना है।

Bhamashah Swasthya Bima Yojana in Hindi

Bhamashah Swasthya Bima Yojana in Hindi

भामाशाह स्वास्थ्य बीमा योजना (बीएसबीवाई) विशेष रूप से राजस्थान के निवासियों के लिए 13 दिसंबर 2015 को शुरू की गई एक स्वास्थ्य बीमा योजना है। इस योजना को राजस्थान सरकार द्वारा ग्रामीण क्षेत्रों में रहने वाले आईपीडी रोगियों को कैशलेस सुविधा प्रदान करने के लिए डिजाइन किया गया था। यह योजना वसुंधरा राजे द्वारा शुरू की गई थी और रुपये तक के स्वास्थ्य लाभ प्रदान करती है। सामान्य बीमारी के लिए 30,000 रुपये और रु। गंभीर बीमारी के लिए 3, 00, 000।

राष्ट्रीय स्वास्थ्य बीमा योजना (RSBY) और राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा अधिनियम (NFSA) के तहत आने वाले परिवार इस योजना का लाभ उठा सकते हैं। योजना के लाभार्थी सरकारी और निजी नेटवर्क अस्पतालों में चिकित्सा सुविधाओं का लाभ उठा सकते हैं।
प्रत्येक परिवार के लिए प्रीमियम भुगतान निश्चित है और कवरेज लाभ प्राप्त करने के लिए फ्लोटर पॉलिसी के आधार पर वार्षिक आधार पर किया जाना चाहिए।

ऐसी योजनाओं के लिए बीमाकर्ता को अक्सर दो चरणों वाली बोली प्रक्रिया के साथ एक खुली प्रतिस्पर्धी सार्वजनिक क्षेत्र की बीमा कंपनी के माध्यम से चुना जाता है। भामाशाह स्वास्थ्य बीमा योजना द्वारा चयनित बीमाकर्ता न्यू इंडिया एश्योरेंस कंपनी लिमिटेड (NIACL) है। यह बीमा कंपनी देश भर में किफायती प्रीमियम पर व्यापक सुविधाओं के साथ सबसे आकर्षक बीमा योजनाएं प्रदान करती है।

भामाशाह स्वास्थ्य बीमा योजना की विशेषताएं:

भामाशाह स्वास्थ्य बीमा योजना में रोगियों द्वारा किए गए सभी चिकित्सा खर्च बीमा कंपनी द्वारा वहन किए जाते हैं और चिकित्सा बिलों का भुगतान सीधे नेटवर्क अस्पताल में अनुमोदित पैकेज सीमा के भीतर किया जाता है। योजना की कुछ प्रमुख विशेषताएं निम्नलिखित हैं:

  • इस योजना का मुख्य उद्देश्य ग्राहकों को बीमारियों के खिलाफ वित्तीय कवर प्रदान करके अतिरिक्त खर्चों के बोझ को कम करना है।
  • इस योजना का उद्देश्य बीमा को संभावित समाधान के रूप में पेश करके स्वास्थ्य सेवा को बढ़ावा देना और प्राथमिकता देना है।
  • स्वास्थ्य बीमा योजना न्यूनतम सरकार और अधिकतम शासन के दृष्टिकोण का समर्थन करती है।
  • योजना का लाभ लेने के लिए आयु सीमा पर कोई रोक नहीं है। इस योजना के तहत बीपीएल कार्ड वाला कोई भी व्यक्ति पात्र है।
  • यह योजना एक बड़ा स्वास्थ्य डेटाबेस बनाने का भी लक्ष्य रखती है जो भविष्य में नई नीतियों को बदलने या बनाने के दौरान उपयोगी साबित हो सकती है।
  • योजना का उद्देश्य सरकारी सुविधाओं पर तेजी से बढ़ती चिंताओं को कम करते हुए निजी क्षेत्र को चिकित्सा सेवाएं प्रदान करने के लिए प्रोत्साहित करके स्वास्थ्य सेवा क्षेत्र में, विशेष रूप से ग्रामीण क्षेत्रों में एक क्रांति लाना है।

भामाशाह स्वास्थ्य बीमा योजना के लाभ:

भामाशाह स्वास्थ्य बीमा योजना एनएफएसए और आरएसबीवाई के लाभार्थियों को लाभ प्रदान करती है और इस योजना के भामाशाह कार्ड के माध्यम से लागू होने की उम्मीद है। हालांकि, भामाशाह कार्ड जारी होने तक आरएसबीवाई और एनएफएसए से संबंधित पहचान की जानकारी का भी सम्मान किया जाना चाहिए। भामाशाह स्वास्थ्य बीमा योजना के कुछ प्रमुख लाभ इस प्रकार हैं:

  • लाभार्थियों को अस्पतालों के लिए इन-हाउस दावा प्रसंस्करण सॉफ्टवेयर और पारदर्शी ग्रेडिंग मानदंड प्रदान किए जाएंगे।
  • जिले के सभी सरकारी अधिकारियों की निगरानी के लिए लाभार्थियों को मोबाइल एप्लिकेशन तक पहुंच प्राप्त होगी।
  • यह योजना तीसरे पक्ष के प्रशासकों को हटाने में मदद करेगी और लागत वृद्धि और रिसाव की रोकथाम के लिए एक प्रभावी निगरानी तंत्र प्रदान करेगी।
  • लाभार्थियों को सरकारी स्वास्थ्य संस्थानों/सुविधाओं पर तत्काल लागत में कमी का लाभ मिलेगा।
  • यह योजना समाज के कमजोर वर्ग के लोगों को चिकित्सा सेवाओं के लिए निजी स्वास्थ्य संस्थानों से संपर्क करने का अवसर प्रदान करेगी।
  • यह योजना सरकारी स्वास्थ्य संस्थानों की चिकित्सा राहत समितियों को वित्तीय सहायता प्रदान करने में मदद करेगी।

स्वास्थ्य बीमा कवर

  • सामान्य बीमारी के लिए स्वास्थ्य बीमा कवर रु. 30,000
  • क्रिटिकल इलनेस कवरअप से रु. 3, 00,000
  • अस्पताल में भर्ती होने से पहले के खर्च सात दिनों के लिए कवर करें
  • अस्पताल में भर्ती होने के बाद के खर्च पंद्रह दिनों के लिए कवर करें
  • पॉलीट्रॉमा और हृदय संबंधी मामलों के लिए परिवहन भत्ता रु। 100 से रु. 500

उपर्युक्त लाभों के अलावा, इस योजना के तहत पात्र रोगियों को सामान्य बीमारी के तहत 1045 पैकेज, सरकारी अस्पतालों के लिए 170 पैकेज और गंभीर बीमारी के तहत 500 पैकेज भी प्राप्त होंगे। पैकेज की लागत में अस्पताल में रहने के दौरान मरीजों के लिए भोजन के साथ-साथ बिस्तर शुल्क, परामर्श शुल्क, रक्त, संज्ञाहरण, चिकित्सा आपूर्ति, प्रत्यारोपण, रोग और रेडियोलॉजिकल परीक्षण शामिल हैं।

भामाशाह स्वास्थ्य बीमा योजना के लिए आवेदन कैसे करें?

चूंकि भामाशाह स्वास्थ्य बीमा योजना गरीबों और जरूरतमंदों की मदद के लिए बनाई गई है, इसलिए आवेदन प्रक्रिया ऑफलाइन होगी। बीमा कवरेज का लाभ उठाने के लिए, केवल मैन्युअल नामांकन की आवश्यकता है।

योजना में रुचि रखने वाले आवेदक मदद लेने के लिए किसी भी नेटवर्क अस्पताल से संपर्क कर सकते हैं।
ऐसे उम्मीदवारों को आवेदन पत्र भरने में मदद करने के लिए प्रत्येक नेटवर्क स्वास्थ्य संस्थान में एक नियुक्त व्यक्ति होगा।
उम्मीदवारों को अपने दस्तावेज जैसे आधार कार्ड, राशन कार्ड आदि लाने होते हैं। अस्पताल में नियुक्त व्यक्ति फॉर्म भरने में उनकी सहायता करेगा।

भामाशाह स्वास्थ्य बीमा योजना के आवेदन के लिए आवश्यक दस्तावेज

भामाशाह स्वास्थ्य बीमा योजना के तहत दावे के लिए आवश्यक दस्तावेजों की सूची निम्नलिखित है:

  • डॉक्टर के नुस्खे की कॉपी
  • रोगी की वैध फोटो आईडी
  • राशन कार्ड या बीपीएल कार्ड की कॉपी
  • आधार कार्ड
  • भीमाशाह कार्ड, आरएसबीवाई कार्ड या एनएफएसए कार्ड
  • निर्वहन फ़ाइल
  • जांच रिपोर्ट की कॉपी

Chiranjeevi Health Insurance Scheme  

Chiranjeevi Health Insurance Scheme

Mukhyamantri Chiranjeevi Swasthya Bima Yojana (MMCSBY)

Chiranjeevi Health Insurance Scheme also known as Mukhyamantri Chiranjeevi Swasthya Bima Yojana is launched by the Rajasthan government and offers health insurance of Rs. 10 lakh to every family. From 1st May 2021, this universal health scheme is available to all the families of Rajasthan. According to statistics, so far more than 12 lakh people have availed the benefits of this scheme.

Initially, the medical coverage amounted to Rs. 5 lakh, which has now been increased to Rs. 10 lakh in the latest budget with an additional accidental cover worth Rs. 5 Lakh. Apart from this, medical treatments like heart transplants, bone marrow, and liver transplants have been added to the scheme.

SECC 2011 registered beneficiaries do not have to register for the scheme, whereas other beneficiaries such as contract workers, and small and marginal farmers can register on the E-Mitra app. To register for the Chiranjeevi Health Insurance Scheme, applicants can visit sso.rajasthan.gov.in.

Mukhyamantri Chiranjeevi Swasthya Bima Yojana

  • Eligible candidates can avail the benefits of cashless treatment in both government and private hospitals.
  • Small/marginal farmers as well as contractual laborers are also covered under this scheme free of cost.
  • Other families who do not fall under the eligible category can get the benefit of the scheme by paying an annual premium of Rs. 850.
  • The state government will pay a premium for families under Below Poverty Line, National Food Security Act (NFSA), and the Socio-Economic and Caste Census (SECC 2011).
  • Families with women as heads eligible under the Chiranjeevi Health Insurance scheme will be given smartphones with free internet connectivity for 3 years.
  • The insurance premiums for all beneficiaries worth Rs. 3500 crores will be paid by the government.
  • Beneficiaries of Ayushman Bharat Mahatma Gandhi Swasthya Bima Yojana can also avail themselves of the benefits of this scheme.
  • In addition to major medical treatments, the scheme also provides coverage for Covid19 care and haemodialysis to the poor.

Mukhyamantri Chiranjeevi Swasthya Bima Yojana (MMCSBY) Details

Scheme

MMCSBY

State

Rajasthan

Scheme effective from

1st May 2021

Coverage

Rs. 10 lakh and additional Rs. 5 lakh accidental cover 

Application fee

Rs. 20 registration fee

Hospital 

All government and network private medical institutions

Official website

Health.rajasthan.gov.in

Benefits of Mukhyamantri Chiranjeevi Swasthya Bima Yojana 

The Chiranjeevi Health Insurance Scheme is initiated with the objective to provide medical financial assistance to all the residents of Rajasthan. Following are some of the benefits offered under this scheme:

  • MMCSBY is the first health insurance initiative from the Rajasthan Government that offers cashless treatment in-network hospitals.
  • The health insurance scheme covers more than 1576 medical tests.
  • Coverage for many diseases is provided under this scheme, along with medical expenses, and related packages post-hospitalization.

Chiranjeevi Health Insurance Scheme or MMCSBY Eligibility Criteria

  • The applicant must be a permanent resident of Rajasthan.
  • All families, other than scheme beneficiaries applying for the MMCSBY need to pay an annual premium of Rs. 850 to avail of coverage benefits.  
  • Families can be covered under MMCSBY by simply applying for it online.
  • SECC 2011 registered families, NFSA card holders, small & marginal farmers, and Samvida workers along with all other families are eligible to get the benefits of this scheme.

What are the documents required to register for Mukhyamantri Chiranjeevi Swasthya Bima Yojana (MMCSBY)

Following is the list of documents required to register for Mukhyamantri Chiranjeevi Swasthya Bima Yojana:

  • Aadhar card,
  • Bhamashah card or Jan Aadhar card, Jan Aadhar number, or Jan Aadhar registration slip.

How to Register Online for Mukhyamantri Chiranjeevi Swasthya Bima Yojana (MMCSBY)?

To get cashless treatment in government and private hospitals under MMCSBY, applicants have to register themselves first. Following are the steps that one can follow to register for this scheme online.

  • Visit the website at sso.rajasthan.gov.in.
  • Fill out the registration form and submit it to get the credentials.
  • With the provided credentials (ID and password) you can access information on the website anytime.
  • Using your ID and password, log in and open the dashboard.
  • You will get both free and paid health insurance options.
  • Click on the insurance policy application as per your eligible category and fill it out.
  • After successfully filling out the application take a print of it.

How to Apply for Chiranjeevi Health Insurance Scheme Online?

Existing/Registered users can apply for the Mukhyamantri Chiranjeevi Swasthya Bima Yojana by following the steps mentioned below:

  • Log in to the SSO portal using your ID and password. You can also retrieve the data in case you forgot it.
  • Once, logged in on the website, open the dashboard.
  • Fill out the application form for the MMCSBY scheme with all the required documents.
  • Review the filled details and submit the application.
  • After successful submission, take a screenshot or a printout of the application form.

How to Track the Status of the Chiranjeevi Health Insurance Scheme (MMCSBY)?

Once the application form is submitted for the Chiranjeevi Health Insurance Scheme, the concerned authorities will assess and verify the same. After successful verification of the application, the applicant will receive a status link, which will get activated in their dashboard. With the help of this link, you will be able to check the status of your application form online or at which stage of the process you are on. To track the status of your MMCSBY scheme application form online, you can visit health.rajasthan.gov.in. Applicants will also be notified in case their application gets rejected.